मंत्री राव इंद्रजीत ने सीएम खट्टर पर बोला हमला, हमें ऐसा मुख्यमंत्री नहीं चाहिए जो चुनाव जीतने के बाद नेता बने

Breaking बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा

Pradeep Dhankhar, Yuva haryana

Jhajjar

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के गढ़ में आज केंद्रीय राज्यमंत्री और गुरुग्राम से भाजपा सांसद राव इंद्रजीत सिंह ने झज्जर के मंडाहेड़ा में रैली कर शक्ति प्रदर्शन किया। इस दौरान केंद्रीय राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह के इस कार्यक्रम में जहां भीड़ जुटाने की कोशिश की गई तो वहीं भिवानी से सांसद धर्मबीर सिंह, पटौदी और कोसली से विधायक भी मौजूद रहे। इस दौरान राव इंद्रजीत सिंह ने बीजेपी सरकार पर भी जमकर तीर छो़ड़े।

राव इंद्रजीत सिंह ने सूबे के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश में वह मुख्यमंत्री नहीं चाहिए जो मुख्यमंत्री बनने के बाद नेता बने, बल्कि प्रदेश में वो मुख्यमंत्री चाहिए जो पहले जनता का मुख्यमंत्री हो और बाद में मुख्यमंत्री बने। राव इंद्रजीत यही नहीं रूके उन्होने मुख्यमंत्री पर ही प्रहार करते हुए कहा कि हमारे लिए सबसे बड़े दुर्भाग्य की बात है कि खट्टर साहब के कार्याकाल में हरियाणा जातिवाद में बंट गया।

राव ने कहा कि तीन टांग की कुर्सी पर जैसे कोई बैठ नहीं सकता, ऐसे ही दरार के बीच कोई सत्ता पर राज नहीं कर सकता।  वहीं SYL पर भी सीएम को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि SYL को लेकर मुख्यमंत्री गंभीर नहीं है। मैं खुद मुख्यमंत्री जी से प्रधानमंत्री से SYL के विषय को लेकर मुलाकात करने की बात रख चुका हूं, लेकिन अफसोस मुख्यमंत्री जी ने रूचि नहीं दिखाई।

इस दौरान राव ने पूर्व सीएम हुड्डा पर जमकर प्रहार किए। उन्होंने हुड्डा पर आरोप लगाते हुए कहा कि हुड्डा को मुख्यमंत्री मैंने बनवाया था। अगर में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा का सहयोग नहीं करता तो हुड्डा की बजाए भजनलाल प्रदेश के मुख्यमंत्री होते। उन्होंने कहा कि हुड्डा अपने आपको किसान नेता बोलता घूम रहा है, लेकिन हुड्डा ना कभी किसान नेता था ना कभी होगा। हुड्डा केवल शहरी नेता है। मैं हमेशा देहात से जीतता आया हूं, असली किसान नेता मैं हूं।

साथ ही राव इंद्रजीत ने इनेलो पर भी तंज कसते हुए कहा कि आज इनेलो एसवाईएल को लेकर जेल भरो आंदोलन कर रही है, लेकिन अफसोस इनेलो को अब एसवाईएल क्यों याद आ रहा है। जब पंजाब में अकाली दल की सरकार थी तब इनेलो ने जेल भरो आंदोलन क्यों नहीं किए। इनेलो एसवाईएल के मुद्दे के जरिए उंगली कटाकर शहीद होना चाहती है। ओमप्रकाश चौटाला सीएम बनने के चक्कर में इस मुद्दे को लेकर हवा दे रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *