सरकारी कॉलेजों के शिक्षकों के लिए एमआईएस सिस्टम शुरु, अब हर काम होगा ऑनलाइन

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 23 July, 2018
हरियाणा सरकार ने राज्य के सभी सरकारी कालेजों में पढ़ाने वाले एसिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर तथा प्रिंसिपलों की सुविधा के लिए एक अहम कदम उठाते हुए मैनेजमैंट इन्फोरेशन सिस्टम(एम.आई.एस) पर द्वितीय चरण के तहत एम्पलाई प्रोफाइल को अपडेट करने का निर्णय लिया है।  इससे इन कर्मचारियों को ऑनलाइन ट्रांसफर, प्रमोशन, उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने की अनुमति लेने, मैडिकल-लीव लेने तथा शिशु देखभाल अवकाश लेने में सहूलियत होगी। क्योंकि एम्पलाई प्रोफाइल अपडेट होने पर ये कर्मचारी उक्त सेवाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन अप्लाई कर सकेंगे।
उच्चतर शिक्षा विभाग के उपनिदेशक (कोर्डिनेशन) डॉ. हेमंत वर्मा ने बताया कि उच्चतर शिक्षा विभाग अपने कर्मचारियों के लिए ऑनलाइन सेवाएं देने की प्रक्रिया में है। उन्होंने बताया कि ऑनलाइन ट्रांसफर, प्रमोशन, उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने की अनुमति लेने, मैडिकल-लीव लेने तथा शिशु देखभाल अवकाश लेने की सुविधा उठाने के लिए संबंधित अधिकारी द्वारा एम्पलाई प्रोफाइल का पूरा किया जाना अनिवार्य किया गया है। इसके बाद यह प्रोफाइल उससे उच्च अधिकारी द्वारा सत्यापित व स्वीकृत की जानी है।
उन्होंने बताया कि कालेजों में सेवारत एसिस्टेंट प्रोफेसर व एसोसिएट प्रोफेसरों की प्रोफाइल को कालेज का प्रिंसिपल या कालेज का मुखिया तथा प्रिंसिपलों की प्रोफाइल को उच्चतर शिक्षा निदेशालय के मुख्यालय की प्रशासनिक शाखा द्वारा सत्यापित किया जाएगा।
डॉ. वर्मा ने बताया कि एम्पलाई प्रोफाइल को तीन भागों (व्यक्तिगत प्रोफाइल, ट्रांसफर पोलिसी प्रोफाइल व सर्विस हिस्ट्री) में विभाजित किया गया है। उन्होंने बताया कि विभाग के महानिदेशक की तरफ से राज्य के सभी सरकारी कालेजों के प्रिंसिपलों को इस बारे में 27 जुलाई 2018 तक एम्पलाईज प्रोफाइल को पूरा करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि द्वितीय चरण के तहत जब एम्पलाईज प्रोफाइल पूरी हो जाएगी, तो उसके बाद ही ऑफिसियल प्रोफाइल को सत्यापित व स्वीकृत माना जाएगा। उन्होंने बताया कि कालेज में उपलब्ध सर्विस रिकॉर्ड के अनुसार ही प्रोफाइल में डाटा भरा जाना चाहिए, अगर इस प्रोफाइल में कोई गलत जानकारी दी गई तो उस कर्मचारी के खिलाफ अनुशासनात्मक व विभागीय कार्रवाई की जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *