मेवात की राजनीति के किंग मोहम्मद इलियास अब जेजेपी में, वीरवार को पुन्हाना में दुष्यंत चौटाला की रैली

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा

Yunus Alvi, Nuh

Yuva Haryana

 

दक्षिण हरियाणा के मेवात क्षेत्र की राजनीति नई करवट ले रही है। यहां के एक बड़े कद्दावर नेता मोहम्मद इलियास ने इनेलो छोड़कर जननायक जनता पार्टी ज्वाइन कर ली है। मोहम्मद इलियास दिखते एक सामान्य नेता हैं लेकिन उनकी राजनीतिक उपलब्धियां और इतिहास बेहद दिलचस्प और प्रशंसनीय है।

मोहम्मद इलियास के नाम एक ऐसा रिकॉर्ड है जो अब हरियाणा का कोई नेता हासिल नहीं कर पाया है। इलियास नूंह जिले (पहले मेवात) की तीनों विधानसभा सीटों पर विधानसभा का चुनाव जीतकर विधायक बन चुके हैं। ऐसा करने वाले ना सिर्फ इस जिले बल्कि पूरे हरियाणा के इतिहास में वे अकेले हैं। मोहम्मद इलियास नूंह विधानसभा से1991, फिरोजपुर झिरका से 2000 में और पुन्हाना से 2009 में विधायक बन चुके है। यानी दो दशक के अंतराल में वे नूंह जिले की तीनों विधानसभा सीटों पर चुनाव जीत चुके हैं। वे 1991 में भजनलाल सरकार तथा 2000 में ओम प्रकाश चौटाला सरकार में मंत्री रह चुके हैं।

इसके अलावा मोहम्मद इलियास के परिवार के अन्य लोग भी इस क्षेत्र में बड़ा राजनीतिक कद रखते हैं और क्षेत्र की जनता ने उन्हें कई बार संसद और विधानसभा पहुंचाया। इलियास के पिता स्वर्गीय रहीम खान 1967, 1972, 1982 में हरियाणा सरकार में मंत्री और 1984 में गुड़गांव लोकसभा सीट से सांसद रहे। यही नहीं, मोहम्मद इलियास के चाचा सरदार खां 1977 में प्रदेश में गृह रज्य मंत्री और छोटे भाई हबीबुर्रहमान 2005 नूंह से निर्दलीय विधायक रह चुके हैं।
मोहम्मद इलियास मेवात क्षेत्र के एक मजबूत नेता हैं और 1987 से लगभग हर विधानसभा चुनाव लड़ते आ रहे हैं। 2009 में उन्होंने बसपा की उम्मीदवार दया भडाना को हराया था जो फरीदाबाद से सांसद रहे अवतार सिंह भडाना की बहन हैं। 2014 में कड़े मुकाबले में वे निर्दलीय उम्मीदवार राहिश खान से सिर्फ 3000 वोटों से हार गए थे, हालांकि उन्हें 26.85 प्रतिशत वोट मिले।

    प्रदेश में दो बार मंत्री और तीन बार विधायक रहे मोहम्मद इलियास ने अब आखिरकार जननायक जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। मोहम्मद इलियास का कहना है कि इनेलो पार्टी में उनका दम घुटने लगा था। इलियास ने कहा कि पहले दुष्यंत चौटाला और फिर अजय चौटाला को निकालने के बाद इनेलो खत्म हो गई है। मोहम्मद इलियास के अनुसार सांसद दुष्यंत चौटाला में ताऊ देवीलाल की झलक नजर आती है। उनका मानना है कि युवा और बुजुर्गों के लिए दुष्यंत चौटाला पहली पसंद बन गए हैं तथा वे ही प्रदेश के अगले सीएम होंगे। आगे के राजनीतिक सफर के लिए उन्होंने जननायक जनता पार्टी को ही क्यूं चुना, इस पर पूर्व मंत्री इलियास का कहना है कि जहां इनेलो अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही हैं, वहीं कांग्रेस पार्टी एक डूबता जहाज है। उनका कहना है कि भारतीय जनता पार्टी की मनमानी और नासमझ हरकतों की वजह से लोग प्रदेश में नया विकल्प चाहते हैं और वो उन्हें जेजेपी में ही नज़र आता है।
मोहम्मद इलियास 28 फरवरी, बृहस्पतिवार को नूंह जिले में एक बड़ी रैली कर रहे हैं जिसमें सांसद दुष्यंत चौटाला मुख्य अतिथि होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *