हरियाणा में महिलाओं की अपेक्षा पुरूष ज्यादा हैं टीबी की चपेट में

Uncategorized अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें सेहत हरियाणा

Yuva Haryana
Chandigarh, 27 March 2018

देश में जहां पुरूषों के मुकाबले महिलाओं में टीबी की बीमारी ज्यादा है, वहीं हरियाणा में इससे उल्टा है। यहां पुरुषों में टीबी के मामले महिलाओं के मुकाबले ज्यादा है।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन एंड नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट में यह सामने आया है कि हरियाणा में एक लाख लोगों पर करीब 229 लोग टीबी से ग्रस्त हैं। इनमें महिलाओं के अपेक्षा पुरुष ज्यादा तादाद में है। यहां प्रति लाख महिलाओं में 199 को टीबी है और प्रति लाख पुरूषों में से 277 टीबी से ग्रस्त हैं।

इनमें से कोई भी लक्ष्ण हो तो आपके टीबी के मरीज होने की आशंका है। तुरंत जांच करवाएं। टीबी का इलाज उपलब्ध है।

रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि देश में पुरूषों की अपेक्षा महिलाएं ज्यादा टीबी से ग्रस्त हैं। आंकड़ों की मानें तो देश में महिलाएं 380 प्रति लाख और पुरुष 220 प्रति लाख टीबी से प्रभावित हैं। हरियाणा में आंकड़ें बिल्कुल विपरीत है। यानि महिलाओं से ज्यादा पुरूष टीबी से जूझ रहे हैं। यहां पुरुषों में धुम्रपान का चलन ज्यादा होना इसकी प्रमुख वजह हो सकती है। सम्पन्नता की बदौलत ज्यादा धुएं वाले इंधन का इस्तेमाल हरियाणा में काफी कम हो गया है जिसका फायदा महिलाओं की अच्छी सेहत के रूप में हो रहा है। इसके अलावा गेहूं और धान की फसल की कटाई के वक्त होने वाला वायु प्रदूषण भी पुरुषों में सांस संबंधित मामले बढ़ाता है।

यह एक ऐसी खतरनाक बीमारी है, जो पुरुषों और महिलाओं दोनों को समान रूप से प्रभावित करती है। यदि कोई गर्भवती महिला टीबी से ग्रस्त हो, तो शिशु पर इसका काफी गंभीर असर पड़ता है। यह शिशु की जन्म से पहले ही उसकी मृत्यु का कारण भी बन सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *