हरियाणा में इस जिले के 100 से ज्यादा गांव में बिजली, पानी के लिए तरस रहे हैं लोग

चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Younus Alvi, Yuva Haryana

Mewat, 16-05-2018

गर्मी का  मौंसम अपनी चरम सीमा पर है, सिर पर रमजान माह आ चुका है। एस मौसम में जहां दिन में  कड़ी धूप में  घर से बाहर निकलना भी मुश्किल होता है, वहीं मेवात जिले पानी न आने से गांव के लोग दूर -दूर से पानी ढोने पर मजबूर हो गए हैं। सेकिन बढ़ती गर्मी से पानी के स्त्रोत भी सुखने की कगार पर आ गए हैं। ऐसे में लोगों को पानी के अकाल की चिंता सताने लगी है।

आपको बता दें कि मेवात में 80 फीसदी मुस्लिम आबादी है। रमजान महीने में ज्यादातर लोग रोजे रखते और रमजान माह में खास नमाज तरावी पढ़ते हैं।

ऐसे में 24 घंटे बिजली और पीने के पानी की दरकार रहती है। सरकार भी रमजान महिने में 24 घंटे बिजली-पानी देने का हुक्त देती है, लेकिन अधिकारी रमजान शुरू होने तक सोये रहते हैं।

जब तक लोग धरना प्रदर्शन और रोड जाम नहीं करते, तब तक अधिकारियों की नींद नहीं खुलती है। भले ही प्रशासन रमजान के महिने में 24 घंटे बिजली-पानी देने का वादा कर रहा है, लेकिन आज भी मेवात इलाके में करीब 100 से अधिक ऐसे गांव है। जहां पर किसी ना किसी रूप से बिजली, पानी की समस्या बनी हुई हैं।

मेवात जिला निवासी मोलाना साबिर कासमी, इसरार अहमद का कहना है कि उनके गांव में मीठे पानी की बात तो दूर गांव में खारी पानी भी नहीं है।

पानी की पूर्ति के लिए उनको 800 से 1000 रूपये में पानी का टैंकर खरीदना पड़ रहा है। जबकि एक टैंकर पानी 10 दिन से ज्यादा नहीं चलता। उनका कहना है कि 10 महीनों से रेनीवील का पानी आना बंद है।  लोंगो को इससे काफी परेशानी हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *