दलित युवक की पीट- पीटकर हत्या, परिजनों ने पुलिस पर लगाए दुर्व्यवहार करने के आरोप

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Jhajjar, 30 June, 2019

झज्जर के गांव भटेड़ा में एक दलित युवक की कुछ प्रभावशाली युवकों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। घटना के दौरान दलित युवक को आधा दर्जन नकाबपोश ने बुरी तरह से पीटने के बाद पुल से नीचे फेंक दिया। नीचे गिरने के बाद दलित युवक की गर्दन की हड्डी व कमर की हड्डी टूट गई।

करीब 15 दिनों तक जीवन और मौत के बीच संघर्ष करने के बाद इस दलित युवक ने रविवार को झज्जर के सरकारी अस्पताल में दम तोड़ दिया। युवक की मौत के बाद जांच करने सरकारी अस्पताल में पहुंचे जांच अधिकारी के नशे की हालत में मृतक के परिजनों से भी दुर्व्यवहार करने का आरोप है।

दलित की मौत पर किसी प्रकार से सरकारी अस्पताल में कोई हंगामा न खड़ा हो जाए इसी के चलते जिला पुलिस ने झज्जर के नागरिक अस्पताल को पुलिस छावनी में तबदील कर दिया।

मृतक के भाई इन्द्रजीत के अनुसार मृतक धनीराम पुत्र रामप्रसाद गांव लुहारी स्थित डीएचएल कम्पनी में सिक्योरिटी गार्ड पर तैनात था। बीती 16 जून को जब वह ड्यूटी से वापिस लौट रहा था, तो गांव खेड़ी सलतान का शमशेर सिंह अपने पांच अन्य साथियों के साथ माछरौली के पास पहुंचा और उसके भाई की लाठियों व डंडे से बुरी तरह पिटाई की।

बाद में उसके भाई को वहीं पर पुल से नीचे फेंक दिया। नीचे गिरने से धनीराम की गले व कमर की हड्डियां टूट गई। अगले रोज ही परिजनों को इस घटना के बारे में पता चला। बाद में उसे उपचार के लिए झज्जर के नागरिक अस्पताल लाया गया। यहां से डॉक्टरों ने उसकी गंभीर हालत को देखते हुए रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया।

बाद में रोहतक से भी डॉक्टरों ने घायल धनीराम को दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया। धनीराम को शनिवार को दिल्ली स्थित अस्पताल से छुट्टी मिली थी। लेकिन घर पहुंचते ही उसकी हालत बिगड़ गई। उसे कल ही उपचार के लिए झज्जर के नागरिक अस्पताल लाया गया था। यहां उसने बीती रात दम तोड़ दिया।

परिजनों का आरोप है कि रविवार को माछरौली थाने से एक पुलिस कर्मचारी अस्पताल आया था। वह नशे की हालत में था और उसने यहां मृतक के परिजनों से दुर्व्यवहार किया। जांच अधिकारी द्वारा मृतक के परिजनों से दुर्व्यवहार करने की पुष्टि माछरौली थाना प्रभारी सुरेन्द्र ने भी की है।

मृतक के भाई ने बताया कि घटना की सूचना माछरौली पुलिस थाने में दे दी गई थी। लेकिन वहां उन्हें न्याय नहीं मिला। उलटा सरकारी अस्पताल पहुंचे जांच अधिकारी अशोक ने उनसे दुर्व्यवहार किया। हत्यारें खुलेआम धूम रहे है। लेकिन पुलिस कोई कार्यवाही नहीं कर रही है। उलटा पुलिस उन्हें ही धमकी दे रही है। वह गरीब है इसलिए पुलिस से भी उन्हें न्याय की कोई उम्मीद नहीं है।

थाना प्रभारी सुरेन्द्र ने कहा कि हत्या के इस मामले में परिजनों की शिकायत पर मुख्य आरोपी शमशेर सिंह सहित आधा दर्जन लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। जिस पुलिस कर्मचारी ने मृतक के परिजनों से दुर्व्यवहार किया था। उसके खिलाफ भी विभागीय जांच अमल में लाई जा रही है। आरोपियों की गिरफ्तारी जल्द ही कर ली जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *