अब झज्जर में भी बनेगा देश के बड़े राष्ट्रीय कैंसर इंस्टीट्यूट में से एक संस्थान, पीएम मोदी करेंगे शुभारंभ

Breaking चर्चा में देश बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Jhajjar, 3 August, 2018

देश में कैंसर की अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए अमेरिका की तर्ज पर झज्जर स्थित एम्स में निर्माणाधीन राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (NCI) को जल्द शुरू करने की तैयारी जोरों पर चल रही है। बुनियादी ढांचा तैयार होने को है। इस बात को ध्यान में रखते हुए एम्स में एनसीआइ के लिए डॉक्टरों की नियुक्ति प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। ताकि इसे मरीजों के लिए खोलने में ज्यादा विलंब न होने पाए।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन 25 दिसंबर को यह सौगात देश को समर्पित की जाएगी। NCI के शुरू होने से कैंसर पीड़ितों को अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधा मिल पाएगी। उन्हें इलाज के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। एम्स के कैंसर सेंटर व एनसीआइ के प्रमुख डॉ. जीके रथ ने बताया था कि वैसे तो NCI में 710 बेड की सुविधा होगी, पर पहले चरण में ओपीडी सेवा शुरू की जाएगी। इसके साथ- साथ मरीजों को भर्ती करने के लिए 250 बेड शुरू किए जाएंगे।

एक बार NCI में मरीजों का इलाज शुरू हो जाने के बाद सुविधाएं धीरे-धीरे बढ़ाई जाएंगी। यह कैंसर के इलाज के लिए सरकारी क्षेत्र का सबसे बड़ा चिकित्सा संस्थान होगा। जहां मरीजों के इलाज के अलावा चिकित्सा शोधों पर भी जोर दिया जाएगा। आपको बता दे कि  एम्स 2 के कैंसर सेंटर में 200 बेड हैं। मरीजों की भीड़ अधिक होने के कारण रेडियोथेरपी के लिए उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ता है। यही वजह है कि झज्जर स्थित एम्स के परिसर में 2035 करोड़ की लागत से NCI का निर्माण किया जा रहा है।

स्वास्थ क्षेत्र में यह केंद्र सरकार की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है। इसका अंदाजा इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि NCI में बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार ने अमेरिका के  NCI से एम्स का समझौता कराया है।

एनसीआइ को पिछले महिने जुलाई में ही शुरू करने का लक्ष्य था पर निर्माण में देरी के कारण शुरू नहीं हो पाया। एम्स प्रशासन इसे शुरू करने में और अधिक विलंब नहीं चाहता। बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार भी इस परियोजना को जल्द पूरा कर आगामी चुनाव से पहले NCI को स्वास्थ्य क्षेत्र में अपनी बड़ी उपलब्धि के रूप में पेश करना चाहेगी ।

इस संस्थान के खुलने से हरियाणा ही नही बल्कि पूरे भारत को लोगो को फायदा होगा। यहा न केवल केंसर का इलाज होगा बल्कि यहा केंसर की खोज भी की जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *