पानीपत के नीरज चोपड़ा ने किया इंडोनेशिया में आयोजित 18वें एशियन गेम्स में भारतीय दल का नेतृत्व

Breaking खेल चर्चा में दुनिया देश बड़ी ख़बरें युवा युवा चैम्पियन हरियाणा हरियाणा के खिलाड़ी हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh, 19 August, 2018

18वें एशियन गेम्स का इंडोनेसिया की राजधानी जकार्ता और पालेमबाग के कारनो स्टेडियम में एक रंगारंग कार्यक्रम के साथ उद्घाटन किया गया। इस कार्यक्रम में इंडोनेशिया के 4000 कलाकारों, लोक नर्तकों व गायकों और डांसरों ने करीब 5000 दर्शकों की मौजूदगी में अपने देश की संस्कृति को दुनिया से रूबरू करवाया।

इस उद्घाटन समारोह में विभिन्न देशों के दलों द्वारा अपने- अपने झंडो के साथ स्टेडियम में फ्लैग मार्च किया गया। जिसमें भारत की तरफ से हरियाणा के पानीपत से संबंध रखने वाले एथलीट नीरज चोपड़ा ने 572 सदस्यीय भारतीय दल की अगुवाई की।

नीरज चोपड़ा ने भारतीय तिरंगा थाम कर बुंग कार्णों स्टेडियम में अपने दल का नेतृत्व किया। उनके पीछे भारतीय दल प्रमुख बृजभूषण शरण और भारत के बाकी एथलीट और खिलाड़ी थे।

बता दें कि नीरज चोपड़ा पानीपत के गांव खंदरा से संबंध रखते हैं। कॉमनवेल्थ में भी भाला फेंक प्रतियोगिता में नीरज ने गोल्ड जीत कर देश का नाम रोशन किया था। ऑस्ट्रेलिया में आयोजित गोल्ड कोस्ट में भी 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के 10वें दिन नीरज ने भारत की झोली में स्वर्ण पदक डाल कर इतिहास रचा था।

2016 विश्व जूनियर चैंपियनशिप में नीरज ने (86.48 मीं.) रिकार्ड के साथ स्वर्ण पदक हासिल किया था। दोहा डायमंड लीग में नीरज ने (87.43 मीं.) के साथ राष्ट्रीय रिकार्ड बनाया था।

ग्रामीण परिवेश से संबंध रखने वाले नीरज चोपड़ा पर किसी समय में जेवलिन खरीदने के लिए पैसे तक नहीं थे। अच्छा जेवलिन डेढ लाख रुपये में आता था, लेकिन नीरज ने 7 हजार रुपये का जेवलिन खरीद कर ही रोज 8 घंटों तक अभ्यास किया।

जिसके बाद नीरज ने धीरे- धीरे सफलता की सीढी चढ़नी शुरू की और आज वे इस मुकाम पर पहुंच गए हैं, कि इंडोनेशिया में आयोजित 18वें एशियन गेम्स में उन्होंने अपने देश के दल का नेतृत्व किया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *