भाला फेंक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने पानीपत के खनरा गांव के नीरज चोपड़ा

Breaking खेल चर्चा में देश बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Gourav Sagwal, Yuva Haryana

Panchkula (14 April 2018)

गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ खेलों के 10वें दिन भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन शानदार रहा है. दिन के खेल में अब तक भारतीय खिलाड़ियों ने चार गोल्ड मेडल जीत लिए हैं। भारत इसके साथ ही गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ खेलों में अब 21 गोल्ड मेडल जीत चुके हैं.

जैवलिन थ्रो में 20 साल के नीरज चोपड़ा ने गोल्ड मेडल जीता है नीरज चोपड़ा भाला फेंक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। नीरज ने पुरुषों की भालाफेंक स्पर्धा में देश के लिए स्वर्ण पदक जीता।

नीरज ने फाइनल में 86.47 मीटर की दूरी तय करते हुए सोने का तमगा हासिल किया।  रजत पदक आॅस्ट्रेलिया के हेमिश पीकॉक के नाम रहा, जिन्होंने 82.59 की दूरी तय की। ग्रेनेडा के एंडरसन पीटर्स 82.20 की दूरी तय कर कांस्य पदक अपने नाम करने में सफल रहे।जबकि विपिन ने 77.87 की दूरी तय करते हुए पांचवां स्थान हासिल किया।

नीरज का यह पदक भारत के लिए राष्ट्रमंडल खेलों के एथलेटिक्स में मात्र चौथा पदक है। उनसे पहले मिल्खा सिंह ने 1958, कृष्णा पूनिया ने 2010 और विकास गौड़ा ने 2014 राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक दिलाए हैं। भाला फेंक स्पर्धा में यह भारत का पहला स्वर्ण पदक है।

इससे पहले नीरज चोपड़ा ने पोलैंड में आईएएफ वर्ल्ड अंडर-20 चैंपियनशिप के जैवलिन (भाला फेंक) प्रतियोगिता में नया वर्ल्ड रेकॉर्ड (अंडर-20) बनाया था। नीरज ने 86.48 मीटर भाला फेंका था। नीरज पानीपत के खनरा गांव के रहने वाले है।

यह भी पढ़े-

हरियाणा के खिलाड़ियों ने चमकाया गोल्ड कोस्ट में देश और प्रदेश का नाम, जानिए आखिरी दिन के Updates

 

1 thought on “भाला फेंक में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने पानीपत के खनरा गांव के नीरज चोपड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *