संपर्क टूटा है संकल्प नहीं, ना इसरो हार मानेगी और ना ही जेजेपी – दुष्यंत चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 7 September 2019 

जननायक जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि गठबंधन की राजनीति में आगे बढ़ने के लिए एक सीमा तक तो समझौता हो सकता है परन्तु कठिन समय में पसीना बहाकर अपना सब कुछ दांव पर लगा देने वाले कार्यकर्ताओं की भावनाओं के साथ मैं कैसे समझौता कर लूं। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं की भावनाओं के साथ समझौता करने की इजाजत न मेरी पार्टी देती और न ही मेरी आत्मा। दुष्यंत ने कहा कि बसपा सुप्रीमो एवं कार्यकर्ताओं के प्रति पहले भी मेरा मान-सम्मान था और आज भी है। उन्होंने कहा कि गठबंधन तोड़ने के पीछे बसपा की कोई मजबूरी रही होगी जिसका मुझे कोई गिला-शिकवा नहीं है।
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों के लिए हमने खुले-मन से बसपा के साथ समझौता किया था। परन्तु बसपा की ओर से समझौता तोड़ने की घोषणा कर दी गई। उन्होंने कहा कि जेजेपी कार्यकर्ताओं ने कठिन समय में पार्टी को खड़ा करने के लिए पसीना बहाते हुए अपना सबकुछ दांव पर लगाया है। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता चाहते हैं कि प्रदेश में स्व. चौधरी देवीलाल के विचारों पर चलने वाली सरकार बने। इसलिए ऐसी सोच रखने वाले कार्यकर्ताओं की भावनाओं के साथ किसी भी कीमत पर खिलवाड़ नहीं किया जा सकता। उन्होंने शायराना अंदाज में कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि मंजिल भी जिद्दी है, रास्ते भी जिद्दी हैं, कल फिर कोशिश करेंगे हमारे हौसले भी जिद्दी हैं।बसपा द्वारा समझौता तोड़ने की घोषणा के बाद शनिवार को जेजेपी नेता उपेंद्र कादियान द्वारा झज्जर जिले के बेरी कस्बे में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करने आए दुष्यंत चौटाला जरा भी विचलित नजर नहीं आए। उन्होंने यहां उमड़ी हजारों की भीड़ के समक्ष स्पष्ट कहा कि हमारा संपर्क टूटा है, संकल्प नहीं, ना इसरो हार मानेगी और ना ही जेजेपी। उन्होंने कहा कि हमारा संकल्प गरीब एवं कमेरे वर्ग का राज लाना है और जब तक इस वर्ग का राज नहीं आएगा तब तक यूं ही संघर्ष करते रहेंगे, चाहे कितनी भी रूकावटें रास्ते में आएं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *