पशुपालन एवं डेयरी विभाग का नया लोगो लॉन्च, घर-घर जाकर पशुओं का इलाज भी करेंगे चिकित्सक

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 24 Oct, 2018

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेशवासियों को पशुपालन एवं डेयरी विभाग का लोगो समर्पित किया। विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रतीक चिन्ह में गाय, भैंस, स्वान, दूध दुहने वाली मशीन, ए.आई. कन्टेनर तथा दुध को दर्शाया गया है, जोकि एक ओर हरियाणा में दुध देने वाली उत्तम किस्म की प्रजाति को दिखाता है, दूध दुहने वाली मशीन, ए.आई. कन्टेनर प्रदेश में आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल को दर्शाता है। जहां एक ओर कर्तव्य निष्ठा व वफादारी के प्रतीक स्वान को दिखाया गया वहां दुसरी ओर हरी पत्तियां प्रदेश की चहुंमुखी खुशहाली को दिखाती हैं।

उन्होंने बताया कि राज्य में कुल 89.20 लाख पशुधन हैं जिनमें से 18.08 लाख गाय, 60.85 लाख भैंस, 3.36 लाख भेड़, 3.69 लाख बकरियां, 1.27 लाख सुअर, 37000 घोडे व टट्टू, 19000 ऊंट, 3000 गधे, 9000 खच्चर हैं इसके अतिरिक्त राज्य में 4.28 करोड़ कुक्कुट पक्षी हैं।

उन्होंने बताया कि 2017-18 में प्रदेश में 89 लाख टन दुध का उत्पादन हुआ था। हरियाणा प्रदेश में प्रति व्यक्ति दुध उत्पादकता 1057 मिली लीटर प्रतिदिन के अनुसार देश में दुसरे स्थान पर है। हरियाणा राज्य देश के 55,855 लाख (5.87 प्रतिशत) के साथ अंडा उत्पादन के साथ देश में छटे स्थान पर है।

प्रवक्ता ने बताया कि राज्य में 6 पालीक्लीनिक, 1018 राजकीय पशु चिकित्सालय, 1814 राजकीय पशु औषधालय, 10 सीमन बैंक तथा 3 सीमन उत्पाद केन्द्र हैं। इस समय विभाग में पशुओं के चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के लिए 953 पशु चिकित्सक, तथा 2540 पशुधन विकाश सहायक कार्यरत हैं।

उन्होंने बताया कि दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए उच्च गुणवत्ता के पशुओं की संख्या बढ़ाना तथा उनका सही तरीके से पालन पोषण करना बहुत जरुरी है। विभाग द्वारा उच्च गुणवत्ता के सांड से निर्मित बीज द्वारा कृत्रिम गर्भाधान किया जाता है जिससे आने वीलसी नई पीढ़ी के पशुओं की अनुवांषिकता गुणवत्ता तथा दुग्ध उत्पादन में वृद्धि  हुई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *