कुरुक्षेत्र से महेंद्रगढ़ तक बनेगा नया नेशनल हाईवे, 5108 करोड़ रुपये की लगेगी लागत

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha,Yuva Haryana

Chandigarh, 10 Dec, 2018

हरियाणा के कुरूक्षेत्र जिले से महेन्द्रगढ़ जिले तक एक नया राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण करवाया जाएगा। जिस पर 5108 करोड़ रुपये की धनराशि खर्च की जाएगी। 230 किलोमीटर लंबे इस राष्ट्रीय राजमार्ग का नाम एन एच 152-डी रखा गया है।

एक सरकारी प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आज हरियाणा के जींद में इस राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण को लेकर एक बैठक का आयोजित किया गया, वे किसान भी उपस्थित थे जिनकी जमीन राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण हेतू अधिग्रहित की गई है।

बैठक में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों एवं जींद के डीसी अमित खत्री ने किसानों से बातचीत की और उनकी समस्याओं व उनकी राय को भी जाना। एनएचएआई के अधिकारियों ने किसानों से कहा कि हरियाणा प्रदेश की यह एक बहुत बड़ी विकास परियोजना है। इस विकास परियोजना के पूर्ण होने से प्रदेश के विकास को गति प्रदान होगी।

जिन किसानों की जमीन इस परियोजना के लिए अधिग्रहण की गई है उन्हें सरकार की नई अधिग्रहण नीति के तहत मुआवजा राशि दी जाएगी। उन्होंने किसानों द्वारा पूछे गए सवालों का स्पष्ट जवाब देते हुए कहा कि जो जमीन अधिग्रहण की गई है, अगर उस जमीन पर कोई मकान, पेड़, टयूबवैल, कोठे व अन्य कोई निजी संपत्ति मौजूद है और वह प्रभावित होती है, तो उस जमीन मालिक को इनका भी मुआवजा दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इस विकास परियोजना के लिए कुल 1826.05 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण की गई है। इस अधिग्रहित की गई भूमि की एवज में किसानों को 529 करोड़ 29 लाख 38 हजार रुपए की राशि मुआवजे के तौर पर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जींद जिला में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की लंबाई 40 किलोमीटर की होगी।

जींद में यह राष्ट्रीय राजमार्ग आलनजोगी खेड़ा गांव से प्रवेश करेगा और रिटौली, खरक गादिया, जामनी, अमरावली खेड़ा, पिल्लूखेड़ा, सिवाहा, आसन्न, धड़ौली, भड़ताना, चाबरी, ललितखेड़ा, निडाना, भैरोखेड़ा, ढिगाना, नंदगढ़, लिजवाना खुर्द, सिरसा खेड़ी, फतेहगढ़, लिजवाना कलां, बूढ़ाखेड़ा लाठर, किलाजफरगढ़ गांवों से होते हुए गुगाहेड़ी गांव से रोहतक जिले में प्रवेश करेगा।

यह राष्ट्रीय राजमार्ग कुरूक्षेत्र, कैथल, करनाल, जींद, रोहतक, भिवानी, चरखी दादरी, होते हुए महेन्द्रगढ़ जिला तक बनाया जाएगा। इस विकास परियोजना का निर्माण कार्य आगामी अढ़ाई वर्ष में पूरा होगा। राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण में पूरी तरह से नई तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा।

यात्रियों व किसानों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा गया है। किसानों की सुविधा के लिए 122 पुलिया व कई अंडर पास का निर्माण भी होगा। राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों तरफ किनारों पर एक लाख 36 हजार दो सौ पेड़-पौधे भी रोपित किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण से लोगों को रोजगार, स्वरोजगार तो उपलब्ध होंगे ही साथ ही सड़क दुर्घटनाओं में भी कमी आएगी।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *