न्यू एनएच-11 के निर्माण से हरियाणा को होगा फायदा, बढ़ेगी व्यवासायिक गतिविधियां

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Chandigarh, 15 Jan, 2019

रेवाड़ी-जैसलमेर न्यू नेशनल हाइवे 11 के निर्माण के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने टेंडर की प्रक्रिया पूरी कर ली है। देश के इस महत्वपूर्व हाइवे से जहां दिल्ली से पाकिस्तान के बीच दो घंटे का सफर कम होगा वहीं 100 किलोमीटर की दूरी की भी बचत होगी।

बता दें कि एनएच-11 पहले आगर से बीकानेर तक ही था,लेकिन साल 2014 में एनएचएआई ने रेवाड़ी से राजस्थान के फतेहपुर तक करीब 190 किलोमीटर  लंबे स्टेट राजमार्ग को फोरलेन करने व न्यू एनएच11 का दर्जा देने की घोषणा की थी। नई प्रक्रिया में हाईवे को बिकानेर से जैसलमेर तक बढ़ा दिया था। इसमें हरियाणा की सीमा के पचेरी, पचेरी से अटेली व अटेली से रेवाड़ी तक शामिल है।

आपको यह भी बता दें कि पहले सेना मुख्यालय और पाकिस्तान सीमा से सटे जैसलमेर जाने के लिए सड़क से पहले रोहतक, हिसार और उसके बाद सीकर में एनएच-11 के जरिये जाना पड़ता था, इसमें कुल दूरी 828 किलोमीटर पड़ती है, लेकिन न्यू एनएच-11 के निर्माण से यह दूरी 730 किलोमीटर रह जाएगी। इसमें करीब 98 किलोमीटर कम होने से समय और आर्थिक बचत होगी।

इस हाइवे के निर्माण का काम तेज फेज में होगा जिसमें पहला फेज फतेहपुर से झुंझनू तक होगा, जबकि दूसरा फेज झूंझनू से पचेरी तक और तीसरा फेज राजस्थान सीमा से सटे गोद बलाह से रेवाड़ी तक होगा।

इस हाइवे के निर्माण के लिए टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है, और करीब ढाई साल में यह हाइवे बनकर निर्माण होने की उम्मीद है। इस हाइवे की चौड़ाई 200 फीट होगी वहीं इसके निर्माण पर करीब दो हजार करोड़ रुपये के खर्च होने की उम्मीद है। इस हाइवे के साल 2021 तक पूरा होने की उम्मीद है।

हरियाणा में बनने वाले इस हाइवे की टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है, इसके लिए टोटल एस्टीमेंट भी तैयार कर लिया गया है। रेवाड़ी से अटेली तक करीब 650 करोड़ रुपये खर्च होने की उम्मीद है। जमीन के अधिग्रहण का काम भी पूरा हो गया है।

माना जा रहा है कि इस हाइवे के निर्माण से हरियाणा को आर्थिक रुप से भी काफी फायदा होगा, क्योंकि इसकी वजह से यातायात की सुविधा ज्यादा होगी और आवागमन बढ़ेगा। वहीं हरियाणा में इस हाइवे के निर्माण से रोजगार के अवसर भी बढेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *