चंडीगढ़ जैसा नया शहर बसाने की तैयारी, गुरुग्राम के पास KMP के नजदीक ढूंढी जा रही है संभावनाएं

Breaking चर्चा में देश बड़ी ख़बरें बिजनेस रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

हरियाणा सरकार कुंडली मानेसर पलवल एक्सप्रेस वे के आसपास एक नया आधुनिक शहर बसाने की तैयारी कर रही है जो गुरुग्राम और दिल्ली का बोझ कुछ कम करे। अगर योजना सिरे चढ़ गई तो 1 लाख से ज्यादा एकड़ पर रिहायशी, कमर्शियल और इंस्टीट्यूशनल क्षेत्रों के समावेश वाला ऐसा आधुनिक शहर विकसित होगा जिसकी तुलना दुबई या सिंगापुर जैसे किसी शहर से की जा सकेगी।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में दिल्ली-गुरुग्राम-नोएडा के बोझ को कम करने के लिए बसाया जाने वाला यह शहर पीपीपी मॉडल यानी पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप पर आधारित होगा। इसका क्षेत्र हरियाणा-पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ से चार गुणा बड़ा होगा और कुल क्षेत्रफल लगभग 50 हजार हेक्टेयर यानी 1.25 लाख एकड़ तक हो सकता है। इस अत्याधुनिक शहर में रिहायश करने वालों के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार आदि की पूरी सुविधाएं होंगी।

शुरूआती तौर पर योजना यह है कि इसे कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस वे के साथ एनसीआर की सभी प्रमुख सड़कों के साथ जोड़ा जाएगा। KMP के आसपास के क्षेत्र को विकसित करने के लिए बनाई जा रही KMP अथॉरिटी के तहत ही इस काम को करने की योजना है। नए शहर के लिए प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने और इसे अमली जामा पहनाने की रूपरेखा बनाने के लिए HSIIDC को सलाहकार चुनने के लिए कहा गया है। सलाहकार तय किए जाने के बाद मास्टर प्लान संबंधी रिपोर्ट छह महीनों के भीतर आ जाएगी।

सलाहकार की तरफ से दी जाने वाली रिपोर्ट में सोशल एक्सेपटेंस, एनवायरमेंटल फिजीबिलिटी के बारे में भी विस्तार से बताना होगा। यह भी देखा जाएगा कि उस क्षेत्र में निवेशकों का रुझान क्या इतना रहेगा कि इस प्रोजेक्ट पर होने वाला खर्चा पूरा हो सके। रिपोर्ट में सड़क परिवहन, मेट्रो रेल के सा​थ दूसरी बुनियादी सुविधाओं का जिक्र भी होगा।

फिलहाल HSIIDC ही KMP Corridor और Expressway को विकसित करने का काम देख रहा है और टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग समेत कई विभाग इस काम से जुड़े हैं। केएमपी कॉरीडोर के तहत नया शहर बसाने जैसे सभी काम देखने के लिए हरियाणा सरकार KMP Authority बनाने जा रही है। इस अथॉरिटी के गठन के लिए एक्ट तैयार किया जा रहा है और जल्द ही यह काम करना शुरू कर देगी।

नया आधुनिक शहर बसाने की यह योजना अगर सिरे चढ़ जाती है तो यह ना सिर्फ एनसीआर, बल्कि पूरे हरियाणा और उत्तरभारत के लिए क्रांतिकारी और फायदेमंद कदम होगा। जिस तरह का विकास पिछले दशक में ग्रेटर नोएडा में हुआ है और चंडीगढ़ के आसपास पंजाब के क्षेत्र में हो रहा है, उससे कई गुणा निवेश, आवास और रोजगार की संभावना इस नए शहर में होगी जिससे दिल्ली का बोझ कम होगा और हरियाणा के युवाओं को फायदा होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *