पानीपत सिटी थाने में गृह मंत्री के दौरे के दौरान सस्पेंड की गई एसआई महिला के बहाली मामले में नया मोड़

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Hayana 
Panipat, 30 Dec, 2019

महिला आयोग की चेयरपर्सन प्रीति भारद्वाज ने पानीपत सिटी थाने में टॉयलेट न होने के प्रकरण में महिला एसआई की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। भारद्वाज का कहना है कि एसआई ने महिला होने का फायदा उठाकर गलत तर्क देकर सस्पेंशन खत्म कराई है।

थाने से गैरहाजिरी होने पर गृहमंत्री अनिल विज ने एसआई महिला को सस्पेंड किया था, लेकिन बाद में उन्हें पत्र लिखकर गैरहाजिरी होने का जोकारण बताया, वह बेबुनियाद साबित हुआ है।
एसआई ने बताया था कि थाने में शौचालय नहीं था, इसलिए क्वार्टर में गई थी।

सच्चाई जानने के लिए थाने के एसएचओ व जिला एसपी सुमित को पत्र भेजकर तीन-तीन सवाल महिला शौचालय है या नहीं, कब से नहीं है और क्यों नहीं है, पूछे गए थे। जिम्मेदारों ने बताया कि थाने में 2 चालू हालत में शौचालय हैं। महिलाओं के लिए अलग से शौचालय की व्यवस्था है। तीन और महिला कर्मी वहां काम करती हैं, लेकिन किसी से शिकायत नहीं मिली।

सब इंस्पेक्टर ने पत्र में लिखा- थाने में महिलाओं के लिए टॉयलेट नहीं, इसीलिए स्टाफ क्वार्टर गई थी, सस्पेंशन वापस

गृहमंत्री अनिल विज के निरीक्षण के दौरान एसआई 15-20 मिनट नहीं बल्कि एक से डेढ़ घंटे तक गैरहाजिरी रही थी। महिला आयोग की चेयरपर्सन प्रीति भारद्वाज ने कहा कि उन्होंने मामले में स्वत: संज्ञान लिया है। अब एसआई के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश के साथ गृहमंत्री अनिल विज और सरकार को रिपोर्ट भेजी जाएगी, लेकिन आरोपी महिला एसआई अब भी अपने स्टैंड पर कायम है। उनका कहना है कि महिलाओं के लिए अलग से शौचालय की व्यवस्था नहीं थी।

ये है मामला …….
गृहमंत्री अनिल विज ने 15 नवंबर को पानीपत सिटी थाने का निरीक्षण किया था। जिसके दौरान थाने में एसआई निर्मला गैरहाजिर मिली थी। ड्यूटी से गायब मिलने पर विज ने उसे सस्पेंड किया था। जिसके बाद उन्होंने गृहमंत्री विज को पत्र लिखा कि ‘16 नवंबर को जब आप थाने में आए तो मैं 15 मिनट के लिए थाना परिसर स्थित अपने क्वार्टर पर वॉशरूम के लिए गई थी, थाने में महिलाओं के लिए अलग टॉयलेट नहीं है। आपके आने की सूचना मिलते ही लौट आई। इसके बाद उसे बहाल कर दिया था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *