शराब तस्करी का नया तरीका, गैस कैंटरों में छिपा कर ले जाई KMP एक्सप्रैस-वे से सप्लाई होती है शराब

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Chandigarh

लगता है प्रदेश से बिहार और गुजरात शराब भेजने की तस्करी जमकर हो रही है। क्यूंकि गुजरात और बिहार में शराबबंदी है जिसके चलते हरियाणा से शराब तस्करी भारी मात्रा में हो रही है। हाल ही में भी यूपी के रतिया से लेकर रेवाड़ी में भी हरियाणा की शराब को बिहार ले जाते हुए पकड़ा था।

हर बार माफिया तस्करी का एक नया तरीका खोजकर लाते है। तस्कर कभी गैस टैंकरों में तो कभी अंडों की ट्रे के नीचे छिपाकर अवैध शराब बिहार भेज रहे हैं। 5 जून को ही एनएच-71 पर गैस टैंकर पकड़ा था जिसमें 576 पेटी शराब भरी हुई थी। वहीं रेवाड़ी में पिछले एक महीने के अंदर करीब 1.50 करोड़ की शराब पुलिस पकड़ चुकी है।

हर बार नए पैंतरे से शराब दूसरे राज्यों में भेजी जाती है। खुद पुलिस भी मानती है कि हर साल 300 करोड़ की अवैध शराब दक्षिण हरियाणा के जिलों से होकर गुजरती है। 

तस्करी में नया नाम कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेस-वेका भी जुड़ गया है। यह अभी पूरी तरह से खुला नहीं है, पर मानेसर से पलवल की ओर खुल चुका है। तस्करों ने यह एक्सप्रेस-वे आसान रास्ता बना लिया है सप्लाई का। एनएच-71 और 8 केएमपी एक्सप्रेस-वे पर मिल जाता है। इन हाईवे से ट्रकों में भरकर अवैध शराब गुजरात, यूपी और बिहार तक पहुंचा दी जाती है।

इसी एक्सप्रैस वे पर 26 मई को सीआईए टीम ने ट्रक पकड़ा, जिसमें 576 पेटी अंग्रेजी शराब थी।

वहीं 12 जून को बेरिकेड तोड़ चालक ट्रक को भगा गया। लेकिन सीआईए ने पलवल पुलिस की मदद से ट्रक को केएमपी टोल पर चालक सहित पकड़ा। इसमें 1150 पेटी शराब बरामद हुई।

बता दें कि पुलिस की इतनी मुस्दैती के बाद भी सप्लायर कभी घर का समान तो कभी अंडे की ट्रे में रखकर सप्लाई करते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *