पीएम के प्रधान सचिव बताकर डीसी ऑफिस में फर्जी कॉल करने के मामले में आया एक और नया मोड़

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh, 5 April, 2019

(यमुनानगर) डीसी निवास पर पीएम ऑफिस के प्रधान सचिव बताकर लड़की की नौकरी की सिफारिश करने के मामले में एक और नया मोड़ आ गया है। बताया जा रहा है कि जिस नंबर से फोन किया गया था, अब उसी नंबर से एक अन्य केस में कुरुक्षेत्र के युवक को उसकी मंगेतर से रिश्ता तुड़वाने के लिए व्हाट्सऐप किया गया।

यह मैसेज 15 मार्च को भेजा गया था, जो कि डीसी ऑफिस में कॉल करने के तीन दिन बाद है। पुलिस का मानना है कि इस केस का मास्टरमाइंड यमुनानगर का हो सकता है।

बताते हैं आपको दोनों मामले-

डीसी ऑफिस में पीएम के प्रधान सचिव बताकर लड़की की नौकरी के लिए किया था फोन-

12 व 13 मार्च को इन 15595450230, 18312882683, 15597258407 नंबरों से डीसी ऑफिस में फोन कर एक व्यक्ति ने पीएम ऑफिस के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा और अगली बार प्रधान सचिव का पीए आशीष बताया। जिसके बाद क्लर्क रविंद्र कुमार ने डीसी को कॉल ट्रांसफर कर दी। कॉल करने वालों ने एक जयता नाम की लड़की की नौकरी लगवाने की सिफारिश की। डीसी ने जांच करवाई तो नंबर फर्जी निकले।क्लर्क रविंद्र कुमार की शिकायत पर जगाधरी पुलिस ने फर्जी केस का मामला दर्ज किया। हालांकि जिस लड़की की नौकरी की बात कही गई, उसके भाई ने कहा कि उनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है और ना ही वह इस बारे में कुछ जानते हैं। बल्कि व्हाट्सऐप पर एक पोस्ट से उन्हें इस खबर की जानकारी मिली।

वहीं, इसी नंबर से एक अन्य केस में मंगेतर से रिश्ता तुड़वाने को लेकर मौसेज किया गया-

रादौर के एक युवक की जगाधरी की लड़की से शादी हुई थी। लेकिन विवाद होने पर विवाहिता ने अपने पति और ससुरालियों पर दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया था। विवाहिता की ननद का रिश्ता कुरुक्षेत्र के एक युवक से हुआ था। जिस घर में ननद का रिश्ता हुआ, वहां एक पत्र भेजा गया, जिसमें लड़की के चरित्र पर सवाल उठाए गए। तो वहीं लड़की के मंगेतर को इंटरनेशनल नंबर से अभद्र शब्द भेजे गए। जिसका शक विवाहिता के परिवार के लोगों पर गया। बताया जा रहा है कि विवाहिता ने पुलिस में जो शिकायत की थी, उसको लेकर भी पीएमओ से सिफारिश आई थी, तब जाकर केस दर्ज किया गया था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *