अरावली में रास्ता बनाने को लेकर NGT सख्त, केंद्र, हरियाणा और निजी फर्म को नोटिस

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana
Chandigarh, 19 March,2018

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने गुरुग्राम इलाके में अरावली की पहाड़ियों में से किसी प्राइवेट कंपनी द्वारा रास्ता निकाले जाने को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है. एनजीटी कोर्ट ने कहा कि किसी भी प्राइवेट फर्म को इस प्रकार से रास्ता निकालने का हक नहीं है।

बता दें कि गुरुग्राम की एक निजी कंपनी अरावली इलाके में छह एकड़ वन विभाग की जमीन पर सड़क बना रही है. यह गुरुग्राम से नेशनल हाइवे-48 को आपस में जोड़ने के लिए बनाया जा रहा है. इसमें कुछ फार्म हाउस को मैन रोड से जोड़ने के लिए यह रास्ता बनाया जा रहा है।

इस रास्ते के निर्माण को लेकर एनजीटी ने कड़ी आपति जताते हुए कहा कि इसको लेकर पहले एनजीटी से इसकी परमिशन लेनी जरुरी है. निजी कंपनी को आदेश जारी करते हुए कहा कि हरियाणा पर्यावरण विभाग की तरफ से निजी कंपनी पहले प्रोजेक्ट को एनजीटी से पास करवाएं ।

इस मामले में एनजीटी ने केंद्र, हरियाणा और प्राइवेट फर्म( कालुवाला कंस्ट्रशन कंपनी) को नोटिस भी जारी किया गया है.  और पूछा गया है कि प्रोजेक्ट को क्यों ना बंद कर दिया जाए ।

एनजीटी में यह सुनवाई एक पर्यावरण कार्यकर्ता डेनियल जॉर्ज की याचिका पर की गई है. उन्होने पेड़ों को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाते हुए एनजीटी कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। इस मामले में अगली सुनवाई 17 अप्रैल को होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *