आयुष्मान योजना का दादरी और नूंह जिलों को नहीं फायदा, दूसरे जिलों में करवाना पड़ेगा इलाज

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Pardeep Sahu, Yuva Haryana
Charkhi Dadri, 08 Dec, 2018

हरियाणा सरकार आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण योजना (एबी-एनएचपीएस) को लागू करने में सबसे आगे होने का दावा करती है, बावजूद इसके चरखी दादरी जिला में इस योजना के तहत कोई निजी अस्पताल सूचीबद्ध नहीं किया गया है। जिसके कारण योजना का लाभ लेने वाले मरीजों को दूसरे जिलों में चक्कर काटने पड़ेंगे। हालांकि यहां लाभार्थियों के स्वर्ण कार्ड बनाए जा रहे हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि आने वाले समय में यहां भी निजी अस्पतालों को सूचीबद्ध कर दिया जाएगा।

आयुष्मान हरियाणा विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार हरियाणा में 84 सरकारी अस्पतालों को प्रदेश के 22 जिलों में प्रमुख योजना के तहत सूचीबद्ध किया गया है। इसके अलावा योजना में 207 निजी अस्पतालों को शामिल किया गया है। लेकिन चरखी दादरी और नूंह जिलों के आयुष्मान भारत योजना के तहत कोई सरकारी या निजी अस्पताल को शामिल नहीं किया गया है। नवगठित दादरी जिले की बात की जाए तो योजना का लाभ लेने वालों के लिए यहां स्वर्ण कार्ड बनाने का कार्य शुरू हो चुका है और करीब 2600 कार्ड बनाएं गए हैं। लेकिन यहां इलाज के लिए सूचीबद्ध अस्पताल शामिल नहीं होने के कारण मरीजों को भिवानी या अन्य जिलों के चक्कर काटने पड़ेंगे।

क्या है आयुष्मान योजना ?

हरियाणा सरकार ने 15 अगस्त से एक पायलट परियोजना के रूप में इस योजना की शुरुआत की थी, जबकि 23 सितंबर को देश में प्रमुख योजना शुरू की गई थी।यह योजना वंचित ग्रामीण और शहरी परिवारों को 5 लाख रुपए का बीमा स्वास्थ्य कवर प्रदान करती है। सामाजिक-आर्थिक-जाति जनगणना (एसईसीसी) 2011 के आंकड़ों के मुताबिक लाभ दिए जा रहे हैं।

दादरी में नहीं इलाज, जाना पड़ेगा बाहर

आयुष्मान भारत योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करवाने आए मरीज रूपेश ने बताया कि मैंने चरखी दादरी से अपना सुनहरा कार्ड बनवाया है। लेकिन इस योजना के तहत यहां कोई निजी अस्पताल नहीं होने के कारण बाहर दूसरे जिलों में जाना पड़ेगा। वहीं राजेश जाखड़ ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत दादरी जिले के निजी अस्पतालों को सूची में शामिल करना चाहिए। ताकि मरीजों को दूसरे जिलों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। इस समय जिले में योजना के तहत कोई अस्पताल शामिल नहीं होने से मरीजों को दिक्कतें आ रही हैं।

 

निर्धारित मानक पूरा नहीं करते दादरी व नूंह जिला

योजना के नोडल अधिकारी डा. रवि विमल ने फोन पर बताया कि इस योजना में 1,350 उपचार पैकेज शामिल हैं, जिनमें से 275 पैकेजों को निजी अस्पतालों की अनुमति नहीं है। चरखी दादरी व नूंह जिलों में सरकार द्वारा निर्धारित मानकों को निजी अस्पताल पूरा नहीं कर सके। इसलिए इन जिलों के निजी अस्पताल सूची में शामिल नहीं किए गए।

 

योजना में कार्ड बनाने शुरू, अस्पताल शामिल करने का प्रोसेस जारी

चरखी दादरी के सामान्य अस्पताल स्थित आयुष्मान भारत योजना के नोडल अधिकारी सतीश कुमार ने बताया कि योजना के तहत लाभार्थियों के लिए स्वर्ण कार्ड बनाने का कार्य शुरू हो चुका है। अब तक जिले में करीब 2600 कार्ड बनाए जा चुके हैं। निजी अस्पतालों को योजना में शामिल करने की प्रकिया चल रही है। जल्द ही प्रक्रिया पूरी करके अस्पतालों को सूची में शामिल किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *