अन्नदाता की मेहनत पर भगवान और सरकार ने फेरा पानी, मंडियों में नहीं पुख्ता इंतजाम

खेत-खलिहान बड़ी ख़बरें हरियाणा

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Bahadurgarh, (09-04-2018)

बहादुरगढ़ में तेज हवा के साथ हुई झमाझम बरसात से एक तरफ जहां मौसम सुहावना हो गया, वही अन्नदाता के माथे पर चिंता की लकीरें खींच गई।

सुबह के समय करीब 7:30 बजे शुरू हुई बरसात के कारण बहादुरगढ़ की अनाज मंडी में खुले में पड़ा गेहूं भीग गया। मंडी में शेड नहीं होने के कारण खुले में पड़ी गेहूं की बोरियां भीग गई।

यहां पर गेहूं का प्रॉपर उठान नहीं होने से किसानों को इस परेशानी का सामना करना पड़ा। आलम यह रहा की बरसात का पानी बोरियों के नीचे से बहता हुआ दिखाई दिया। तेज बरसात में ना सिर्फ खुले आसमान के नीचे पड़े गेहूं को भिगोने का काम किया, बल्कि अन्नदाता की साल भर की मेहनत पर पानी फेर दिया।

इतना ही नहीं किसानों की खेत में खड़ी फसलों को तेज हवा के कारण भी नुकसान हुआ है। इससे खेतों में खड़ी फसल गिर गई और कटा हुआ गेहूं भी भीग गया। जिसे अब सुखाना पड़ेगा। जिसके कारण अब गेहूं का रंग फीका भी पड़ सकता है।

किसानों का कहना है कि अचानक हुई बरसात के कारण उन्हें भारी नुकसान हुआ है। किसानों ने बहादुरगढ़ में अनाज मंडी में शेड की व्यवस्था करने या फिर नई मंडी बनाने की मांग की है। ताकि हर साल होने वाली परेशानी से किसान बच सकें।

वही मार्केट कमेटी के वाइस चेयरमैन पंकज गर्ग का कहना है कि नई मंडी का प्रोसेस चल रहा है। जल्द ही मंडी का काम शुरू होगा और वहां शेड की व्यवस्था भी की जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि बारिश से जो गेहूं भीग गया है, उसे सुखाकर दोबारा बोरियों में भरा जाएगा और किसानों को नुकसान या परेशानी नहीं होने दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *