इजराइल के बाद अब जापान भारत को देगा फार्मिंग तकनीक, किसानों को मिलेगा भरपूर फायदा

Breaking खेत-खलिहान चर्चा में देश बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष
Vivek Rana, Yuva Haryana
Ghrounda, 30 July, 2018
खेती में इंडो इजराईल कोलेबरेशन के सफल परिणामों से जापान भी उत्साहित है। इजराइल के बाद अब जापान भारत को फार्मिंग की नई तकनीक देगा। जापानी एम्बेसी से आए एक प्रतिनिधि मंडल ने इंडो-इजराइल केंद्र का दौरा कर भारत के साथ मिलकर काम करने की इच्छा जाहिर की। जापान की तरफ से की गई इस पहल से उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही हरियाणा में जापानी तकनीक से फसलों की पैदावार होगी।
देश व प्रदेश के किसान अंतर्राष्ट्रीय स्तर की तकनीक से खेती कर सकेगें। भारतीय किसानों ने जिस तरह से इजराइली तकनीक को अपनाया है, उससे जापान बेहद प्रभावित है। जापान चाहता है कि भारत के किसान सब्जियों व अन्न के उत्पादन में उनकी तकनीक और विधियों को आजमाए। अपनी इस योजना को आगे बढ़ाने के लिए सोमवार जापान के दूतावास से अधिकारियों का एक दल इंडो-इजराइल केंद्र पहुंचा।
यहां पहुंचनें पर बागवानी विभाग के उपनिदेशक डॉ. बिल्लु यादव, केंद्र के प्रोजेक्ट ऑफिसर आरएस पुनिया व अन्य अधिकारियों ने गुलदस्तों के साथ स्वागत किया। केंद्र के सहायक प्रोजेक्ट ऑफिसर कृष्ण कुमार ने कांफ्रेेंस हाल में जापानी डेलीगेशन को केंद्र की गतिविधियों से रूबरू करवाया। करीब डेढ़ घंटे की डिस्क्शन के बाद जापानी डेलीगेशन ने हाईटेक ग्रीमन हाउस में सोइल लैस पौध के बारे में विस्तृत जानकारी हासिल की। केंद्र के अधिकारियों ने जापानी डेलीगेशन को मिश्रण से तैयार होने वाली पौध को लेकर खेती में होने वाले फायदों के बारे में बताया।
विशेषज्ञों ने बताया कि किसानों को पोली हाउस में लगाई जाने वाली सब्जियों को कैसे लगाए और लगाते समय कौन-कौन सी सावधानियां बरते, इसके बारे में जानकारी दी जाती है।
जापान डेलीगेशन के साथ पहुंचें जापानी अधिकारी कांटों ऑनिशी, टेटसूया यूईटेक, सदाटेका, शक्ति श्रीधरन, हारूकी फाकुई व अन्य ने बताया कि इजराइल की तरह उनकी तकनीक भी बेहद अच्छी और किसानों के लिए लाभकारी है। वे चाहते है कि भारत के किसान उनकी तकनीक अपनाए और उनकी कंपनियां यहां पर काम करें। उन्होंने कहा कि यहां के किसान बेहतर गुणवत्ता वाली फसलों का उत्पादन करके अपने उत्पाद अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भेज सकेगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *