कंप्यूटर पर लगातार काम करने वाले अब हो जाएं सावधान, बढ़ रही है ‘कंप्यूटर विजन सिंड्रोम’ रोगियों की तादाद

सेहत

Yuva Haryana
20/03/18

तेज दौड़ती इस जिंदगी में कंप्यूटर के महत्व  को कोई नकार नहीं सकता, लेकिन इस पर घंटों काम करने से ‘कंप्यूटर विजन सिंड्रोम’ से पीड़ित लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), डॉ. राजेंद्र प्रसाद नेत्र विज्ञान केंद्र के प्रोफेसर्स ने बताया कि कंमप्यूटर पर लगातार काम करने से ‘कंप्यूटर विजन सिंड्रोम‘ नाम की बीमारी सामने आयी है, जिसमें आंखों का सूखना, आंखों का लाल होना, आंखों से पानी निकलना और मांसपेशियों का कमजोर होना शामिल है।

कंप्यूटर बहुत ध्यान खींचने वाला साधन है। जब आप काम करते हैं, तो लगातार कंप्यूटर या लैपटॉप में ही देखते रहते हैं, क्योंकि यह आपको अपनी ओर आकर्षित करता है। इससे आंखें नहीं झपकती हैं। इस वजह से आंखों का पानी सूख जाता है।

प्रोफेसर्स ने बताया कि आजकल लोगों की नौकरी 12 घंटे कंप्यूटर या लैपटॉप पर काम करने की है। जब आप किताब पढ़ते हैं, तो आप 30-40 मिनट में उठते हैं और इधर-उधर जाते हैं। मगर कंप्यूटर पर काम करने के दौरान ऐसा नहीं होता है। आप घंटों लगातार बैठे रहते हैं।

इन्हीं कारणों से ‘कम्प्यूटर विजन सिंड्रोम’ नाम की बीमारी अस्तित्व में आई है, जिसमें आंखों का सूखना, आंखों का लाल होना, आंखों से पानी निकलना और मांसपेशियों का कमजोर होना शामिल है। उन्होंने कहा कि आंखों में खुजली होने या आंखों के लाल होने की परेशानी सबको है। यह दिक्कत किसी को कम तो किसी को ज्यादा है। यह निर्भर इस पर करता है कि आप कंप्यूटर पर कितना वक्त बिताते हैं।

केंद्र के अन्य डॉक्टर्स ने बताया कि कंप्यूटर से आंखों पर पड़ने वाला दुष्प्रभाव तुरंत मालूम नहीं पड़ता है। यह 5-6 साल लगातार काम करने के बाद दिखना शुरू होता है। उन्होंने बताया कि कंप्यूटर पर लगातार काम करने से आंखें लाल होने लगती हैं और खुजली होती है। गंदे हाथों से आंखों को मलने से आंखों में संक्रमण भी हो जाता है। इसके अलावा बार-बार आंख मलने से आंख का कोर्निया भी प्रभावित हो सकता है।

कंप्यूटर और लैपटॉप पर काम करने के दौरान आंखों को स्वस्थ रखने के उपाय बताते हुए डॉ. ने कहा कि कंप्यूटर स्क्रीन आंखों की सीध में या आंखों से थोड़ी नीचे होनी चाहिए। स्क्रीन आंखों से ऊपर नहीं होनी चाहिए। इसकी स्क्रीन आंखों से जितनी ऊपर होगी, आंखों पर उतना जोर पड़ेगा। डॉक्टरों की सलाह यह भी है कि कंप्यूटर या लैपटॉप पर काम करने के दौरान एंटी ग्लेयर चश्मा लगाएं, जो आंखों को कंप्यूटर से निकलने वाली किरणों से काफी हद तक हिफाजत करता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *