अब नहीं दिखेंगे भीख मांगते और बाल-मजदूरी करते बच्चे, गुरुग्राम जिला कोर्ट ने उठाया ये खास कदम

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Manu Mehta,Yuva Haryana

Gurugram, 14-03-2018

गुरुग्राम में बाल मजदूरी को रोकने और भीक्षावृति पर लगाम लगाने के लिए गुरुग्राम जिला कोर्ट की तरफ से एक मुहिम चलाई गई है। जिसके तहत मासूमों का भविष्य संवारने और उनकी तकदीर बदलने का प्रयास किया जा रहा है। इस मुहिम के तहत अगर किसी भी बच्चे  को भीख मांगते हुए या फिर बाल मजदूरी करते हुए देखा जाए, तो उसका वहां से रेस्क्यू करने के बाद चाइल्ड केयर भेजा जायेगा।

भीक्षावृति और मजदूरी की इस तस्वीर को बदलने के लिए गुरुग्राम जिला अदालत की लीगल सेल सर्विस अथॉरिटी ने दूसरी संस्थाओं के साथ मिलकर यह कदम उठाया है कि ऐसे बच्चों का रेस्क्यू करने के बाद उन्हे एक अच्छा महौल दिया जाए।

फिलहाल टीम द्वारा एक महीने में 50 बच्चों को रेस्क्यू करके, उन्हें चाइल्ड केयर में भेजना की योजना है। बच्चों के उपर पूरी स्टडी होगी कि बच्चे का  बैग्राउंड क्या है। जिसके बाद बच्चे को पूरी पढ़ाई और रहने के लिए एक अच्छा महौल दिया जाएगा।

भीक्षावृत्ति का एक नजारा देखने को मिला है, गुरुग्राम के जिला अदालत और लघुसचिवालय परिसर में। जहां एक बच्चे को कुछ लोग जबरदस्ती ले जाने की कोशिश कर रहे है और एक महिला ये सब करने के रोक रही है।

टीम को यह बच्चा भीख मांगता हुआ नजर आया और उसके बाद इस टीम ने इस बच्चे को वहां से ले जाने की कोशिश की। लेकिन इस बच्चे की रिश्तेदार बताने वाली  महिला टीम को इस बच्चे को नहीं ले जाने दे रही थी। इस बच्चे को चाइल्ड केयर भेजा गया है। अब उम्मीद ये है कि ऐसे  मासूमों को एक अच्छा महौल मिले  औऱ उनकी जिंदगी में फैला ये अंधियारा खुशियों की रोशनी के साथ बदले।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *