हिंदी केवल मात्रभाषा नहीं, हमारी मातृभाषा है – मोहित ईसराना

स्थानीय हरियाणा

Yuva Haryana News
@ Mohit Israna

मातृभाषा को बोलने मे हर कोई सम्मान महसूस करता है, देवनागरी लिपि का अपना अलग ही महत्व है। जो शब्द जैसा लिखा जाता है वह वैसा ही बोला जाता है,  हिंदी भाषा का साहित्य भी काफी समृद्ध है।  उक्त विचार मोहित ईसराना ने सत्य भारती स्कूल मोहनपुर में हिंदी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम पर कहे।

इस अवसर पर उनके द्वारा चलाई जा रही मुहीम हर घर तुलसी घर घर तुलसी के तहत 101 पौधे तुलसी बच्चो को वितरित किए।  इसके साथ ही राजकीय प्राथमिक पाठशाला ईसराना मे भी 51 पौधे वितरित कर हिंदी दिवस के साथ साथ पर्यावरण संरक्षण का भी संदेश दिया। इससे पहले इस मुहीम के लिए मोहित ईसराना को अग्निपथ संस्था और SDM कनीना द्वारा सम्मानित किया जा चुका है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *