भिवानी डिपो से शुरू हुआ ऑनलाइन ड्यूटी सॉफ्टवेयर सिस्टम, प्रदेश का पहला डिपो बना

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Bhiwani, 09 Feb,2019

हरियाणा रोडवेज में चालक व परिचालकों की ड्यूटियां ऑनलाइन करने वाला भिवानी डिपो प्रदेश का पहला डिपो बन गया है। इसके तहत शुक्रवार को सभी चालकों व परिचालकों की ऑनलाइन ड्यूटियां लगाई हैं। इसके चलते चालक व परिचालक सप्ताह में केवल 48 घंटे ही ड्यूटी करेंगे। सरकार की डिजिटल इंडिया नीति के तहत यह शुरुआत की गई।

ऑनलाइन ड्यूटी शेड्यूल के लिए रोडवेज विभाग के कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर लोड कर दिया गया है। एम्पलाइज कोड डालते ही चालक व परिचालक का सप्ताहभर का ड्यूटी शेड्यूल कंप्यूटर स्क्रीन पर आ जाएगा। इसके अलावा चालक व परिचालक को उनके मोबाइल पर ड्यूटी के संबंध में मैसेज भी प्राप्त होगा। मैसेज मिलने पर चालक व परिचालक को शेड्यूल के अनुसार निर्धारित रूट पर बसों को चलाने के लिए ड्यूटी के लिए पहुंचना होगा।

शुक्रवार को ऑनलाइन ड्यूटियां दिल्ली रूट पर चलने वाली बसों के लिए चालक व परिचालकों की लगाई गई। अगले चार दिन में गुड़गांव, हिसार, जींद, बहादुरगढ़, सिकर और सभी मुख्य रूटों के साथ लोकल रूटों के लिए भी ऑनलाइन ड्यूटी प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

प्रदेश के अन्य डिपो में भी इसी माह से ऑनलाइन ड्यूटी प्रक्रिया की शुरूआत की जाएगी। भिवानी में इसी माह प्रदेशभर के सभी डीआई की मीटिंग आयोजित की जाएगी और प्रदेश के सभी रोडवेज डीआई को भिवानी में ही ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके बाद प्रदेश के अन्य डिपो में ऑनलाइन ड्यूटी प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

बता दें रोडवेज विभाग को ओवर टाइम बंद करने से प्रदेशभर में लगभग 100 करोड़ रुपए का घाटा हो चुका है। इसके अलावा चालक व परिचालकों के समय पर ड्यूटी न करने से लगभग 38 करोड़ का नुकसान हुआ है। घाटे को पूरा करने व चालक व परिचालकों के ड्यूटी में लापरवाही बरतने आदि की समस्या को दूर करने के लिए चालक व परिचालकों के लिए ऑनलाइन ड्यूटी प्रक्रिया शुरू करने की जरूरत पड़ी।

चालक व परिचालकों को ओवर टाइम देने के समय डिपो की बसें प्रतिदिन 39 से 40 हजार किलो मीटर की दूरी तय करती थी। ओवरटाइम बंद किए जाने के बाद बसें प्रतिदिन 35 से 36 हजार किलो मीटर की दूर तय कर रही है। इससे निगम को लगभग दो लाख रुपये का प्रतिदिन नुकसान हो रहा है।

इस नए रोस्टर को सफल बनाने के लिए 10 बसों पर 16 चालक और 16 ही परिचालकों की आवश्यकता होती है। भिवानी में इस समय 171 बसों पर 292 चालक व इतने ही परिचालक हैं। इस के हिसाब से भिवानी में यह आंकड़ा निर्धारित आंकड़े से अधिक ही है। इसलिए भिवानी में इस शेड्यूल के सफल होने में कोई परेशानी नहीं होगी, लेकिन जिस भी डिपो में निर्धारित नॉर्मस के अनुसार स्टाफ नहीं मिला तो वहां पर परेशानी हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *