कांग्रेस ने स्वामीनाथन रिपोर्ट को दबाए रखा, किसानों को कुछ भी नहीं दे पाई कांग्रेस

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा
Deepak Khokhar, Yuva Haryana
Rohtak, 05 July, 2018
प्रदेश के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने फसलों का समर्थन मूल्य बढ़ाए जाने पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि यह आज तक की सबसे बड़ी बढ़ोतरी है। किसानों के खाते मे भारत वर्ष में 33 हजार 500 करोड रूपए अधिक जाएंगे। हरियाणा के किसानों को 1500 करोड़ रूपए का लाभ इस खरीफ की फसल पर मिलेगा । लेकिन यह एकल लाभ नहीं आवृत्ति लाभ है। जो हर फसल पर मिलने वाला है क्योंकि अब फार्मूले के हिसाब को लेकर चलना होगा। 
धनखड़ वीरवार को रोहतक के विकास सदन में आयोजित एक समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार ने हर फसल की खरीद का संकल्प लिया है। पहले दाम घोषित होते थे लेकिन खरीद नहीं होती थी। घोषणा मात्र घोषणा रह जाती थी। यह निर्णय किसानों की आर्थिक स्थिति मे वास्तविक बदलाव लाएगा व फसल विविधिकरण को यथार्थ मे बदल देगा।
ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि वर्ष 2004 मे सरकार बनने पर कांग्रेस सरकार ने एमएस स्वमीनाथन के नेतृत्व मे किसान आयोग का गठन किया। स्वामीनाथन कमीशन ने अक्तूबर 2006 मे अपनी रिपोर्ट मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को सौंप दी । कांग्रेस इस रिपोर्ट को दबाए बैठी रही । 2009 के चुनाव के समय एक नौटकी प्रारंभ की। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा के नेतृत्व मे तत्कालीन पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्ध देव भट्टाचार्य व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सम्मिलित कर स्वामीनाथन रिपोर्ट के क्रियान्वित के लिए कमेटी बनाई। इस कमेटी ने दिसंबर 2010 मे अपनी रिपोर्ट सौंप दी लेकिन परिणाम शून्य।