Home Breaking रोहतक तृतीय कृषि शिखर सम्मेलन में कृषि मंत्री धनखड़ ने कहा, किसान को परंपरागत तरीके छोड़ के कम पानी में अच्छा लाभ प्राप्त करने के तरीके ईजाद करने होंगे

रोहतक तृतीय कृषि शिखर सम्मेलन में कृषि मंत्री धनखड़ ने कहा, किसान को परंपरागत तरीके छोड़ के कम पानी में अच्छा लाभ प्राप्त करने के तरीके ईजाद करने होंगे

0
0Shares

Yuva Haryana 

Rohtak (25 March 2018)

रोहतक में चल रहे कृषि शिखर सम्मेलन में दूसरे दिन पहुंचे राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि हरियाणा छोटा प्रदेश होते हुए भी देश के बड़े राज्यों में अपनी एक अलग पहचान रखता है। हरियाणा सरकार ने अपने प्रयासों से कृषि को फिर से लाभकारी कार्य बना दिया है। प्रदेश के विकास किसानों का योगदान अभूतपूर्व है। वे रविवार को तृतीय कृषि शिखर सम्मेलन के दौरान एक सत्र में बोल रहे थे। इस मौके पर केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधामोहन सिंह, हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, सहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर, खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कर्ण देव कंबोज भी उपस्थि थे।

सेमिनार में कृषि के साथ-साथ सब्जी और फलों से बने उत्पाद को बढ़ावा देने पर चर्चा हुई। सम्मेलन के दूसरे दिन राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने राज्य के चार किसानों को गेंहू, धान, कपास व गन्ना श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ उत्पादकता के लिए कृषि रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया।

वहीं कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि कम पानी और कम जोत में भी किसान को अच्छा लाभ प्राप्त करने के तरीके ईजाद करने होंगे। इसके लिए खेती, सिंचाई की नई-नई तकनीक अपनानी होंगी, साथ ही किसानों को खेती का रिस्क कवर करने के बिंदु समझने होंगे। उन्होंने कहा कि समय के बदलाव के साथ किसान को भी अपने उत्पाद बेचने के परंपरागत तरीके छोडऩे होंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को अच्छी आमदनी के लिए बाजार की जरूरत अनुसार कृषि उत्पाद की मार्केटिंग व पैकिंग पर अधिक ध्यान होगा, तभी वह बिचौलियों को होने वाले मोटे मुनाफे का सीधा लाभ खुद ले सकता है।

 

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

भारतीय सेना ने 89 ऐप्स का उपयोग करना जवानों और अधिकारियों के किए किया बैन

Yuva Haryana, Chandigarh सेना ने 89 ऐप…