विज की बढ़ी मुश्किलें- हाईकोर्ट के नोटिस के बाद, अब विपक्षी पार्टियां कर रही प्रहार

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Surinder Wadhawan, Yuva Haryana

Kaithal, 16 May, 2018

एसडीओ मारपीट और सस्पेंड मामले में जहां सरकार की किरकिरी हो रही है, वहीं विपक्षी पार्टियों को सरकार को घेरने का मौका भी मिल गया है।

विपक्षी पार्टियां इस मामले को लेकर पूरी तरह सरकार पर धावा बोल रही हैं और अनिल विज के इस फैसले को तानाशाह बता रही है। सभी विपक्षी दल अनिल विज के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

गुहला चीका में आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, इनेलो और बसपा गठबंधन ने बीजेपी विधायक कुलवंत बाजीगर और अनिल विज के खिलाफ नारेबाजी कर शहीद उधम सिंह चौक पर तीनों का पुतला फूंका। सभी राजनीतिक पार्टियां एसडीओ के समर्थन में आ गई है।

इसके साथ ही एसडीओ वेदपाल ने हाईकोर्ट में एक याचिका दायर करके स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज, विधायक कुलवंत बाजीगर, डीसी, एसपी, कैथल इंजीनियर इन चीफ, हरियाणा जन स्वास्थ्य विभाग और दो अन्य लोगों को पार्टी बनाकर अपने सस्पेंशन पर स्टे लगवा दिया है।

जिस पर हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार समेत सभी लोगों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। इस मामले की सुनवाई 13 जून को तय की गई है।

प्रदर्शन कर रहे नैनो के पूर्व विधायक बूटा सिंह ने कहा कि बीजेपी सरकार में भ्रष्टाचार और गुंडागर्दी चरम सीमा पर है। ये गुहला विधायक कुलवंत बाजीगर का कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी विधायक और उसके परिवार पर मारपीट और गुंडागर्दी के आरोप लगते आए हैं, जो कि मनोहर सरकार के भ्रष्टाचार मुक्त और गुंडा राज्य मुक्त दावों की पोल खोल रहे हैं।