सीएम के गोद लिये गांव में पंचों के इस्तीफों का दौर जारी, आज दसवें पंच ने भी दिया इस्तीफा

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
Yuva Haryana News
Kaithal, 17 Sept, 2018
कैथल में मुख्यमंत्री द्वारा गोद लिए गांव क्योड़क में पंचों द्वारा इस्तीफा देने का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। एक के बाद एक अब तक 9 पंच इस्तीफा दे चुके है और आज वार्ड नंबर 15 के पंच राजकुमार ने भी अपना इस्तीफा उपायुक्त को सौंप दिया। अब तक कुल दस पंचों ने इस्तीफा दे दिया है।
ग्रामीणों द्वारा प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं कि प्रशासन सरपंच को बचाने में जुटा हुआ है। वैसे ग्रामीण मुख्यमंत्री से तो खुश लेकिन सरपंच और प्रशासन से नाराज है क्योंकि ग्रामीणों का मानना है मुख्यमंत्री गांव विकास के लिए खूब पैसा दे रहे हैं। परंतु सरपंच द्वारा हेराफेरी कर गोलमाल  किया जा रहा है और विकास कार्यों में किए गए गोलमॉल का उजागर होने के उपरांत भी प्रशासन द्वारा कोई संज्ञान नहीं लिया जा  रहा है अब तक सिलसिलेवार 9 पंच इस्तीफा दे चुके हैं और आज दसवे पंच राजकुमार ने अपना इस्तीफा कैथल के उपायुक्त को सौंप दिया।
गौरतलब है कि कैथल का गांव क्योड़क को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गोद लिया हुआ है जिसके बाद मुख्यमंत्री ने गांव के विकास के लिए करोड़ों रुपए का बजट भेजा गया जिसकी  गांव के एक आरटीआई कार्यकर्ता द्वारा सूचना मांगी जाने पर इस गोलमाल में करोडो रुपए के गबन का खुलासा हुआ। जिसकी शिकायत CM विंडो पर भेजी गई। एक एसडीओ और दो जई की जांच के बाद यह खुलासा हुआ कि विकास कार्यों में हेराफेरी हुई है। जिसकी रिपोर्ट कैथल के उपायुक्त को कार्यवाही के लिए भेजी गई और एक लंबे समय से उपायुक्त द्वारा कार्यवाही ना होने से नाराज पंचायत के 9 पंचो ने अपने इस्तीफा उपायुक्त को दे दिया।
मीडिया में खबर आने के बाद विजिलेंस की टीम गांव में जांच करने आई लेकिन ग्रामीणों का आरोप है सरपंच ने अपने गुर्गो के साथ मिलकर गांव में तनाव का माहौल बनाने की कोशिश की और यह जांच पूरी होने नहीं दी जिससे  जांच टीम को बैरंग ही लौटना पड़ा।  अगले ही दिन नाराज ग्रामीणों ने कैथल की सड़कों पर प्रदर्शन कर उपायुक्त को ज्ञापन सौंप इस पुरे मामले की जाँच मुख्यमंत्री उड़न दस्ते से करवाने के मांग की और एक लम्बा समय बीतने का बाद कार्यवाही ना होने से नाराज  वार्ड 15 के पंच राजकुमार ने भी आज अपना इस्तीफा उपायुक्त कैथल को सौंप दिया। हालांकि कैथल के उपायुक्त इस पूरे मामले पर सरपंच का बचाव करते नजर आए और दूसरी कमेटी द्वारा जांच रिपोर्ट बात कही जिससे ग्रामीण संतुष्ट नजर नहीं  आए ग्रामीणों को संदेह है कि पिछली रिपोर्ट को निष्क्रिय कर उपायुक्त सरपंच को बचाना चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *