पंचायतों में ई-प्रणाली के विरोध में हड़ताल पर पंच, सरपंच, ग्राम सचिव, कहा योजना के बंद न होने तक पंचायती काम-काज बंद

Breaking बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Umang Sheoran, Yuva Haryana

Panchkula (28 March 2018)

पंचकूला में प्रदेशभर से एकत्र हुए सरपंचों, पंचों और ग्राम सचिवों ने चंडीगढ़ स्थित हरियाणा मुख्यमंत्री निवास का घेराव करने पहुंचे है। पूरे हरियाणा प्रदेश से करीब हजारों पंच, सरपंच और ग्राम सचिव पंचकूला में एकजुट हुए है। इससे पहले 22 मार्च को सभी जिलों के उपायुक्त को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया था।

बता दें कि पंचायतों में आनलाइन प्रणाली को लेकर सरंपच सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन कर रहे है। सरपंचों का कहना है कि वे इस योजना के बंद न होने तक पंचायतों का काम-काज बंद रखेगें।

हालात को देखते हुए पंचकूला-चण्डीगढ़ बॉर्डर पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। इससे पहले हरियाणा मुख्यमंत्री के ओएसडी आलोक वर्मा ने धरनास्थल पहुंच कर बातचीत की पेशकश की थी लेकिन प्रदर्शनकारियों ने ओएसडी बिना बातचीत के ही वापस लौटा दिया था।

वहीं सरकार एक अप्रैल से पंचायतों में भी ई-प्रणाली लागू करने जा रही है। लेकिन संरपच इसके विरोध में सड़कों पर उतर आए है। संरपचों ने कहा कि इस प्रणाली से हम काम नहीं कर सकते है। हम पंचायत एक्ट के तहत ही काम कर सकते है।

इन मुद्दों पर है घेराव

ई-पंचायत प्रणाली ग्राम विकास में बाधक है, जिसे तत्काल प्रभाव से बंद किया जाए।

हरियाणा पंचायती राज एक्ट 1994 को पूर्णतया लागू किया जाए।

ग्राम सचिव की योग्यता स्नातक की जाए और पटवारी के समान ग्रेड पे दिया जाए।

सांसदों और विधायकों की तर्ज पर सरपंचों और पंचों का मानदेय बढ़ाया जाए, पेंशन प्रणाली भी लागू करने के साथ दैनिक भत्ता भी दिया जाए।

ग्राम सचिवों के 20 रुपए मासिक भत्ते को बढ़ाकर 5 हजार रुपए मासिक किया जाए।

गांवों में जल्द से जल्द राशन कार्ड बनवाएं जाएं आैर सर्व कराकर बीपीएल कार्ड बनाएं।

प्रधानमंत्री आवास योजना का विस्तार किया जाए, शहरों की तर्ज पर गांवाें में भी इस योजना का लाभ दिया जाए, ताकि ग्रामीणों को छत मिल सके।

गांवों में मूलभूत सुविधाओं एवं समुचित विकास के लिए ग्राम पंचायतों का पर्याप्त धन दिया जाए, ताकि धन के अभाव में प्रभावित हो रहे कार्यों को कराया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *