लावारिस गौवंश और अवैध डेयरी के खिलाफ एकजुट हुए लोग, बैठक कर नगर परिषद को दी चेतावनी

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Bahadurgarh, 1 Oct, 2018

बहादुरगढ़ में लावारिस पशु अब लोगों की जान के दुश्मन बन गए हैं। पिछले दिनों सैनिक नगर में लावारिस गौवंश की चपेट में आकर एक महिला की जान भी चली गई थी। वार्ड 20 में लावारिस गौवंश लोगों के लिए समस्या बन गए हैं।

शयद ही कोई ऐसा दिन हो जब गौवंश की टक्कर से किसी को चोट न लगती हो। अब इस समस्या के खिलाफ वार्ड के लोग एकजुट हो गए हैं। लोगों ने नगर परिषद को समस्या समाधान की चेतावनी दी है। वहीं नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी ने 15 से 20 दिनों में समस्या के स्थाई समाधान की बात कही है।

बता दें कि आज बहादुरगढ़ को स्ट्रे कैटल फ्री हुए पूरा एक साल हो गया है। लेकिन बहादुरगढ़ शहर की हर सड़क, गली और चौक चौराहों पर लावारिस पसुओं का कब्जा हो चुका है। सब्जी मंडी के पास तो शम के वक्त लावारिस गौवंश सड़क पर बैठ जाता है। दरअसल वार्ड 20 में अवैध डेयरी और चारा विक्रेता के कारण वहां लावारिस गौवंश की तादाद बढ़ रही है।

नगर परिशद के वाईस चेयरमैन विनोद इसी वार्ड से पार्षद भी है। उनका कहना है कि डेयरी वाला दूध निकालकर गौवंश को खुला छोड़ देता है और चारा विक्रेता के कारण लोग खुले में गौवंश के लिए चारा डालते हैं, जिसके कारण लावारिस गौवंश की तादाद काफी ज्यादा हो गई है। गौवंश की टक्कर से स्कूली बच्चे, बुजुर्ग और महिलायें भी घायल हो चुकी हैं।

वार्ड 20 के लोगों ने कई बार लावारिस गौवंश और अवैध डेयरी के खिलाफ शिकायत की, लेकिन समाधान नहीं हुआ। हार कर कालोनी के हजारों लोगों ने बैठक कर नगर परषद को चेतावनी दी है। जिसका असर भी हुआ है। नगर परिषद के ईओ ने खुद बैठक में पुहंचकर लोगों को 15 से 20 दिन में स्थाई समाधान का आश्वासन दिया है।

हम आपको बता दें कि लावारिस गौवंश की टक्कर से एक बुजुर्ग महिला की मौत भी हो चुकी है। इसके अलावा शहर में गौवंष की टक्कर से घायल होने वाले लोगों की तादाद भी काफी ज्यादा हो गई है। ऐसे में प्रशसन को दावों की जगह धरातल पर काम करते हुए शहर से लावारिस गौवंश को गौशालाओं में भेजने का काम करना चाहिए।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *