Home Breaking पेट्रोल डीजल की बिक्री 90 फीसदी तक हुई कम, सरकार को दो लाख करोड़ बचने की संभावना

पेट्रोल डीजल की बिक्री 90 फीसदी तक हुई कम, सरकार को दो लाख करोड़ बचने की संभावना

0
0Shares

Yuva Haryana, Chandigarh

लॉकडाउन का सबसे बुरा असर पेट्रोल पंपों पर पड़ रहा है। इनकी बिक्री 90% तक घट गई है। दूसरी ओर कच्चे तेल की कीमत गिरना और मांग में कमी को सरकार के लिए राहत की बात माना जा रहा है। विशेषज्ञों के मुकाबिक अगर लॉकडाउन जून तक चला तो सरकार का तेल आयात बिल 25 से 30% तक कम हो सकता है। यानी करीब दो लाख करोड़ रुपए बचेंगे।

ऑल इंडिया पेट्रोलियम डीलर्स  एसोसिएशन ( एआईपीडीए) के अध्यक्ष अजय बंसल और सचिव गोपाल माहेश्वरी ने बताया कि देश में सरकारी कंपनियों के 68 हजार, निजी कंपनियों के 10 हजार पेट्रोल पंप है। आम दिनों में रोजाना औसत 32.5 करोड़ लीटर पेट्रोल विकता है। अब लॉकडाउन से बिक्री 10% बढ़ जाएगी। वहीं, नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि अभी मांग घटने के साथ क्रूड ऑइल के दाम घटने के साथ क्रूड ऑइल के दाम घटकर 27 डॉलर प्रति बैरल पर हैं।

देश में 2018-19 में ऑइल इंपोर्ट 112 अरब डॉलर (7.83 लाख करोड़ रुपए) था। अगर लॉकडाउन जून तक चले तो इससे इंपोर्ट बिल 25-30% घट सकता है। यानी करीब 2 लाख करोड़ रूपए की बचत हो सकती है।

सरकार को बिक्री 90% घटने से एक्साइज ड्यूटी का नुकसान हो रहा है। केंद्र डीजल पर प्रतिलीटर 18.83 रुपए व पेट्रोल पर 22.98 रुपए एक्साइज ज्यूटी लेता है। इस हिसाब से डीजल पर उसे रोज करीब 550 करोड़ व पेट्रोल पर करीब 206 करोड़ रुपए का नुकसान रहा है। राज्य सरकारों को भी वैट नहीं मिल रहा।

सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनी इंडियन ऑइल (आईओसी) ने कहा है कि देश में पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस पर्याप्त मात्रा में उपल्बध है। आईओसी के चेयरमैन संजीव सिंह ने कहा कि हमारे पास पेट्रोल-डीजल और एलपीजी का इतना स्टॉक उपलब्ध है कि पूरे अप्रैल प्रत्येक ग्राहक को आपूर्ति के बाद भी खत्म नहीं होगा। हमारे सभी एलपीजी बॉटलिंग प्लांट क्षमता से ज्यादा काम कर रहे हैं।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

हरियाणा के जवान ने छत्तीसगढ़ में की आत्महत्या, जानिए क्या है वजह

Yuva Haryana, Sonipat सोनीपत से स…