सरसों की खरीद न होने पर किसान में फैला रोष, कहा- सरकार ने शर्तें वापिस न ली तो करेंगे आंदोलन

सरकार-प्रशासन हरियाणा

Deepak Khokhar, Yuva Haryana

Rohtak, 28-03-2018

फसल मंडियों में सरसों की खरीद न होने से किसानों काफी मायूस है और उन्हें परेशानियों का भी सामना करना पड़ रहा है। केंद्र और प्रदेश सरकार ने सरसों का मुल्य देने की घोषणा तो कर रखी है, लेकिन किसानों की सरसों की फसल मंडियों में खरीदी नहीं जा रही है।

जिसके चलते किसानों में काफी रोष है। किसानों का कहना है कि सरकर ने सरसों की खरीद पर कई ऐसी शर्तें लगा रखी हैं, जिनको पूरा करने के लिए उनके काफी पैसे खर्च होते हैं।

किसान सभा के जिला अध्यक्ष प्रीत सिंह का कहना है कि केंद्र और प्रदेश सरकार ने सरसों की फसल की खरीद के लिए खेत की फर्द, फोटो व अन्य कई शर्तें लगाई गई है। जो किसानों के साथ ज्यादती है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। किसान अपना पैसे खर्च कर, ये सभी दस्तावेज उपलब्ध करवाते हैं।

लेकिन फिर भी खरीद में नंबर नहीं आता है। इसलिए सरकार को तुरंत ये सभी शर्तें वापस लेनी चाहिए, ताकि किसान अपनी फसल को आसानी से बेच सकें। एक एकड़ की केवल 6 कविंटल सरसों खरीदने की बात की जा रही है।

जबकी प्रति एकड़ 12 कविंटल तक सरसों की फसल निकल रही है। बाकी फसल को किसान कहां लेकर जाए। इसलिए सरकार पूरी फसल खरीदने का प्रावधान बनाए। अगर यह नहीं किया गया तो किसानों को मजबूरन रोड़ जाम और बडे़ आंदोलन  का रूख अपनाना पड़ेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *