राष्ट्रपति भवन में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ टीम को आज लीड करेंगी झज्जर की डीसी सोनल गोयल

Breaking बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति भवन, नई दिल्ली में आयोजित होने वाले नारी शक्ति पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में लिंगानुपात सुधार के लिए झज्जर जिला के प्रदर्शन को भी जगह मिली है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से उपायुक्त सोनल गोयल को झज्जर जिला की इस उपलब्धि के लिए नारी शक्ति पुरस्कार कार्यक्रम के लिए विशेष तौर पर आमंत्रित किया गया है।

भारत सरकार की ओर से पहली बार नारी शक्ति पुरस्कार कार्यक्रम में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम के कार्य करने वाले ब्रांड एंबेसडर और लोकल चैंपियन को भी शामिल किया गया है। उपायुक्त सोनल गोयल नारी शक्ति पुरस्कार कार्यक्रम के दौरान इस टीम का नेतृत्व करते हुए झज्जर में लिंगानुपात सुधार के लिए किए गए कार्यों का अनुभव भी सांझा करेंगी। हरियाणा ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शामिल सभी राज्यों से सोनल गोयल इकलौती ऐसी अधिकारी है जिन्हें महिला दिवस पर राष्ट्रीय कार्यक्रम में यह अवसर प्राप्त हुआ।

भारत सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव चेतन बी संघी ने हरियाणा के मुख्य सचिव डीएस ढेसी को पत्र लिखकर झज्जर की उपायुक्त सोनल गोयल को नारी शक्ति पुरस्कार कार्यक्रम में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ टीम का नेतृत्व करने के लिए आमंत्रित किया है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार की ओर से भी हर वर्ष आज 8 मार्च को देश में अपनी उपलब्धियों से पहचान रखने वाली महिलाओं को नारी शक्ति पुरस्कार दिए जाते है। भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद नारी शक्ति पुरस्कार के लिए चयनित महिलाओं को सम्मान प्रदान करेंगे। इस बार नारी शक्ति पुरस्कार कार्यक्रम में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम भी प्रमुख है।

बता दें कि हरियाणा के मुख्य सचिव को भेजे गए पत्र में झज्जर जिला में वर्ष 2017 के दौरान जन्म लेने वाले बच्चों में लिंगानुपात की दर 920 का भी जिक्र किया गया। लिंगानुपात की यह उछाल राज्य की औसत दर के साथ-साथ वर्तमान दशक में झज्जर जिला में सर्वाधिक है। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम की शुरुआत के बाद लिंगानुपात में सुधार की दिशा में किए गए प्रयासों से निकल कर आए इस नतीजे से झज्जर जिला को सराहना मिली है।
पंचायती राज संस्थाओं, सामाजिक संगठनों, महिला एवं बाल विकास विभाग, स्वास्थ्य विभाग सहित जिला प्रशासन के संयुक्त प्रयासों से जिला को यह उपलब्धि हासिल हुई है। लिंगानुपात में सुधार के लिए झज्जर की उपायुक्त सोनल गोयल को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ टीम को लीड करने का अवसर मिला है। वही जिला उपायुक्त सोनल गोयल ने इस उपलब्धि को झजजर जिले के गांव शहर के लोगो में आई जागरूकता का नतीजा बताया। कभी लिंगनुपात 800 से था आज उसी झज्जर का लिंगानुपात 920 से उपर जा चुका है। इसी की बदोलत आज झज्जर जिलें को राष्ट्रीय कार्यक्रम में लीड करने का मौका मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *