सीएम मनोहर लाल ने चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेस कर किए यह ऐलान, पढ़िए-

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 21 May, 2019

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हरियाणा निवास पर एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। चुनाव आयोग की अनुमति के साथ यह प्रेस कांफ्रेंस की गई। जिसमें सीएम ने कहा कि प्रदेश में जलसंकट की स्तिथि पर हम गम्भीर हैं, उन्होंने कहा कि लगातार जल संकट गहरा रहा है।

सीएम ने कहा कि धान की खेती को हतोत्साहित करने की दिशा में कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हरियाणा गर्म प्रदेश, समुन्द्र से दूर, वर्षा अपर्याप्त है। हरियाणा के लिए कोई सीधी नदी नहीं, यमुना सीमावर्ती नदी है। पानी को लेकर दिल्ली का भी दबाव रहता है। इसे हम मानवता के नाते निभाते आये हैं।

खट्टर ने कहा कि एसवाईएल का विषय भी गम्भीर, लखवार, किसाऊ, रेणुका बांध को लेकर भी लगातार गम्भीर है। भूजल स्तर गिरने से स्तिथि बिगड़ रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के आधे जिले डार्क जोन की ओर बढ़ रहे हैं, 9 जिलों में जल दोहन अधिक हैं। हमारी जमीन में 74 प्रतिशत जलनिकास अलग-अलग माध्यमों से हुआ।

धान के विकल्प के तौर पर पायलेट योजना 7 जिलों के 7 खण्डों के लिए बनाई गई है। अभी इनमें 1.95 लाख हेक्टेयर धान से 50 हजार हेक्टेयर में मक्का, अरहर की खेती में शिफ्ट करने की योजना तैयार की गई। इस क्षेत्र में जो धान की खेती नहीं करेंगे उन्हें 2 हजार रुपए एकड़ देंगेमक्का का उच्च गुणवत्ता का बीज दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसान का 2 प्रतिशत भी सरकार देगी, जो 766 रुपए प्रति एकड़ मक्का, अरहर की एमएसपी पर सरकार खरीद करेगी। अभी 22 हजार हेक्टेयर में उत्पादन हो रहा है मक्का। मक्का फसल की अवधि 100 दिन, धान की 130 दिन, इससे गेंहू जल्दी बुवाई के लिए समय मिलेगा।

सीएम ने कहा कि मक्का के अवशेष काम आएगा, पराली की तरह चिंता का विषय नहीं। अटेरना, मनौली में फसल विविधीकरण के बड़े उदाहरण बने हैं। एक किलोग्राम चावल उगाने के लिए 3000 से 3500 लीटर पानी की खपत, मक्का की खेती में प्रति हेक्टेयर एक लाख लीटर पानी की बचत होगी।

अरहर, सोयाबीन खेती के लिए भी हैं योजना। धान की सीधी बिजाई में कम लगता है पानी, इसके लिए बीज के लिए सब्सिडी दी जाएगी।हरियाणा में तालाब प्राधिकरण, जिसमें 14 हजार तालाबों के सुधारीकरण के लिए योजना है। 3 हजार तालाब को थ्री पाण्ड, फाइव पाण्ड सिस्टम के दायरे में लाया गया। एनजीटी ने भी हरियाणा के इन प्रयासों को सराहा।

पायलेट योजना : नए ट्यूबवेल कनेक्शन गैर धान क्षेत्र के लिए कनेक्शन दिए जाएंगे-

पीने के पानी की व्यवस्था को लेकर 101 स्थान ऐसे जहां पानी की गुणवत्ता बिगड़ी, वहां केनाल बेस्ड पानी देने की तैयारी, काम शुरू, 3 महीने में इन स्थानों की जरूरत पूरी की जाएगी। खट्टर ने कहा कि हरियाणा का दिल्ली पर पानी का 100 करोड़ रुपया बकाया है अभी तक।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *