Home Breaking प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यकुशलता का पूरा विश्व मान रहा है लोहा : अरविंद शर्मा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यकुशलता का पूरा विश्व मान रहा है लोहा : अरविंद शर्मा

0
0Shares

Yuva Haryana, Chandigarh

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यकुशलता का पूरा विश्व लोहा मान रहा है। हर कोई हिंदुस्तान की तरफ सहायता की आस लगाकर देख रहा है। भारत सरकार ने रहमदिली दिखाई और यह बात रोहतक के सांसद डॉक्टर अरविंद शर्मा ने कही।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के कहर से जूझ रहे ब्राजील ने हनुमान जंयती पर इस महामारी के लिए ‘गेमचेंजर’ बताई जा रही दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को ‘संजीवनी बूटी’ करार दिया है। ब्राजील ने मलेर‍िया रोधी इस दवा के लिए भारत से मदद जारी रखने की गुहार लगाई है। ब्राजील के राष्‍ट्रपति जैर बोल्‍सोनारो ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में उन्‍हें धन्‍यवाद दिया। नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में भारत विश्वगुरु बनने की तरफ अग्रसर है।

अरविंद शर्मा ने कहा कि ब्राजील के राष्‍ट्रपति ने कहा है कि जिस तरह हनुमान जी ने संजीवन बूटी लाकर भगवान राम के भाई लक्ष्‍मण के प्राण बचाए थे, उसी तरह से भारत की ओर से इस दवा की सप्‍लाइ जारी रखने से लोगों के प्राण बचेंगे। उन्‍होंने कहा कि भारत और ब्राजील मिलकर इस महासंकट का सामना करने में सक्षम होंगे। ब्राजील ने इस दवा की सप्‍लाइ को जारी रखने की गुहार ऐसे समय पर लगाई है जब अमेरिका समेत दुनियाभर से इस दवा की मांग रही है।

दरअसल, वैश्विक महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस का संक्रमण विश्व के कई देशों में तेजी से फैल रहा है। अमेरिका, इटली, स्पेन जैसे विकसित देशों ने भी इस वायरस के आगे घुटने टेक दिए हैं। खुद अमेरिका की नजरें अब मदद की आस में भारत पर टिकी हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात कर कोरोना से लड़ने के लिए सहयोग की मांग की थी। अमेरिका ने कोरोना से जंग के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की 29 मिलियन डोज खरीदी है। इसमें से एक बड़ा हिस्‍सा भारत से अमेरिका खरीद रहा है। शुरू में भारत ने इस दवा के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था लेकिन अब फिर से शर्तों के साथ इसकी अनुमति दे दी है।

सांसद अरविंद शर्मा ने कहा कि दुनियाभर से आ रही मांग के बीच भारत ने कहा है कि वह मानवीय आधार पर यह दवा निर्यात करेगा। उन्होंने कहा कि यह किसी भी सरकार का दायित्व होता है कि पहले वह सुनिश्चित करे कि उसके अपने लोगों के पास दवा या इलाज के हर जरूरी संसाधन उपलब्ध हों। इसी के मद्देनजर शुरू में कुछ एहतियाती कदम उठाए गए थे और कुछ दवाओं के निर्यात को प्रतिबंधित किया गया था। भारत ने सोमवार को 14 दवाओं पर लगे प्रतिबंध को हटा दिया है।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

लॉ कॉलेज की छात्रा ने साथ पढने वाले छात्रों पर लगाए गैंगरेप के आरोप

Yuva Haryana, panipat पानीपत के स…