गुरुग्राम के प्रिंस मर्डर केस में चल रहे ट्रायल पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक, जस्टिस अरुण मिश्रा की बेंच ने अभियुक्त को जारी किया नोटिस

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Gurugram, 20 Nov, 2018

गुरुग्राम प्रिंस मर्डर केस में सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी भोलू पर चल रहे केस पर रोक लगा दी है। बता दें कि पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने सात साल के प्रिंस की हत्या के आरोपी को बालिग मानने से इंकार कर दिया था। साथ ही जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के फैसले पर रोक भी लगा दी थी।

वहीं 20 दिसंबर 2017 को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने आरोपी पर बालिग की तरह केस चलाने का आदेश दिया था। सीबीआई ने कोर्ट में याचिका दायर कर इस मामले में गिरफ्तार नाबालिग आरोपी पर बालिग की तरह मुकदमा चलाने की मांग की थी।

पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ मृतक छात्र के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। जिसमें कहा गया है कि जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने पूरी प्रक्रिया का पालन करते हुए आरोपी के खिलाफ बालिग की तरह केस चलाने का आदेश दिया था।

सुनवाई के दौरान याचिकार्ता के वकील सुशील टेकरीवाल ने कोर्ट से कहा कि जुवेनाइल जस्टिस एक्ट में हुए संशोधन के मुताबिक16 से 18 साल के आरोपी के खिलाफ गंभीर आरोप हो, तो बालिग की तरह केस चलाया जा सकता है।

इसी के आधार पर जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने आरोपी के खिलाफ बालिग की तरह केस चलाने का आदेश दिया था। इस याचिका की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस केस के ट्रायल पर फिलहाल के लिए रोक लगा दी है।