निजी प्रकाशकों की पुस्तकें लागू करने वाले निजी स्कूलोंं पर कसा जाएगा शिकंजा, अब से लागू होंगी सिर्फ NCERT पुस्तकें

बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana
Chandigarh, 19 March,2018

हरियाणा स्कूली शिक्षा विभाग के निदेशक ने प्रदेश के सभी जिला शिक्षा एवं जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी कर सख्त आदेश दिए हैं कि निजी प्रकाशकों की पुस्तकें लगाने वाले स्कूलों पर सख्ती बर्ती जाए और यह भी सुनिश्चित किया जाए कि अब से सभी निजी स्कूलों में NCERT पुस्तकें ही लगाई जाएं। स्कूली शिक्षा विभाग के निदेशक ने पत्र में यह भी कहा कि जिन निजी स्कूलों ने शिक्षा निदेशालय की वेबसाइट पर ऑनलाइन फार्म-6 अभी तक जमा नहीं कराया है, उनके खिलाफ भी सख्ती से निपटा जाएगा।
बता दें कि हरियाणा स्कूली शिक्षा विभाग मार्च माह के दौरान स्कूली बच्चों के दाखिलों को लेकर निजी स्कूलों के लिए कुछ गाइडलाइन जारी करता है। इन निर्धारित गाइडलाइन के हिसाब से ही निजी स्कूलों को नया दाखिला करने एवं पुराने विद्यार्थियों से मासिक शुल्क लिए जाने की हिदायतें दी जाती हैं।
स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन अध्यक्ष बृजपाल परमार ने निदेशक के पत्र का हवाला देते हुए कहा कि प्रदेश के सभी डीईओ के बाद भी सम्बंधित शिक्षा अधिकारियों ने निजी स्कूलों में निजी प्रकाशकों की किताबें लगाए जाने पर कोई कार्रवाई नहीं की है। उनका कहना है कि अगर निजी स्कूलों में निजी प्रकाशकों के साथ साजिश कर बच्चों पर महंगी पुस्तकों का बोझ लादा गया तो स्कूलों को सीधे हाई कोर्ट में घसीटा जाएगा।
उन्होंने कहा कि कोई भी निजी स्कूल ड्रेस, पाठयक्रम की पुस्तकें और अन्य शिक्षण सामग्री स्कूल के अंदर बिक्री नहीं कर सकता और ना ही किसी बच्चे को बाहर किसी एक दुकान से पाठयक्रम की पुस्तकें खरीदने के लिए मजबूर कर सकता है। दयानंद गर्ग ने कहा कि कोई भी निजी स्कूल बच्चों से कैपिटेशन फीस नहीं ले सकते। इसके अतिरिक्त बच्चों से हर साल एडमिशन या कोई अन्य शुल्क भी नहीं लिया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *