बारिश में भीगा किसानों का पीला सोना, प्रशासन के दावों की खुली पोल

Breaking खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Surender Wadhawan, Yuva Haryana

Guhla Cheeka, 22 Sept, 2018

धान का सीजन शुरू होते ही सरकार और प्रशासन द्वारा अनाज मंडी में किसानों के लिए पुख्ता इंतजाम होने के दावों की पोल आज चंद मिनटों की बारिश ने खोल दी। जिसे अनाज मंडी में चारों और पानी हो गया और किसानों का पीला सोना पानी में बह गया। जिसे किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया और किसानों के चेहरे पर मायूसी छा गई ।

किसानों ने सरकार और प्रशासन पर सवाल उठाते हुए कहा कि हर बार सीजन में सरकार और प्रशासन द्वारा किसानों के लिए पुख्ता इंतजाम होने के दावे किए जाते हैं परंतु सरकार और प्रशासन के दावों की पोल दिखाते हुए किसानों ने बताया कि प्रशासन द्वारा मंडी में निकास पानी निकासी के लिए कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए हैं और ना ही किसानों के गेहूं को बरसात से बचाने के लिए तपाल का इंतजाम किया गया है।

किसानों ने बताया कि जो शेड किसानों के धान को बरसात से बचाने के लिए बनाया गया था उसमें गेहूं के कट्टे लगाए गए हैं जो यह बताने के लिए काफी है कि सरकार और प्रशासन किसानों के प्रति कितना गंभीर है। गांव प्रभोत   से सरपंच किसान बलविंदर सिंह ने कहा कि किसानों का करोड रुपए का धान पानी में बह गया है परंतु अभी तक कोई भी अधिकारी और कर्मचारी किसानों की सुध लेने अभी तक मौके पर नहीं पहुंचा है । सरपंच बलविंदर सिंह ने कहा कि कल उपायुक्त कैथल ने भी मंडी का निरीक्षण किया था परंतु उपायुक्त के निरीक्षण पर भी स्थानीय प्रशासन ने कोई ठोस कदम नहीं उठाए जिसे किसानों का धान बर्बाद होने से बच सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *