लाल, गुलाबी रंग छोड़ सब कांग्रेस के झंडे के नीचे रैली में आए- कांग्रेस हाईकमान

Breaking बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

कांग्रेस के अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी द्वारा 29 अप्रैल को दिल्ली में की जाने वाली जन आक्रोश रैली हरियाणा कांग्रेस का भविष्य तय करेगी। प्रदेश में चल ही गुटबाजी अब तक हुड्डा और तंवर को एक मंच पर नहीं ला सकी है। पर रैली कुछ और ही मायने निकाले जा रहे है।

अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी की यह पहली बड़ी रैली है। जिसको लेकर गुटबाजी को दूर रख कर इसे सफल बनाने के लिए हरियाणा कांग्रेस के सभी नेता लगे हुए है।

अक्सर रैली में क्या होता है कि हर खेमा अपनी भीड़ को दिखाने के लिए रंगो का सहारा लेता है। जैसे हुड्डा खेमा गुलाबी पगड़ी तो तंवर गुट लाल रंग में नज़र आते है। पर इस बार हाई कमान ने साफ कर दिया है कि कोई भी गुट अपने रंगो से परहेज़ करेगा। कार्यकर्ता सिर्फ कांग्रेस के झंडे के नीचे होंगे। क्यूंकि पिछली बार इस रंग की गुटबाजी के कारण लड़ाई हो गई थी औऱ तंवर घायल हो गए थे।

वहीं पूर्व सीए हुड्डा भी हाल ही मैदान में उतरें है। वे इस रैली के मायने शायद जानते है इसलिए हुड्डा पैर में फ्रैक्चर होने के बाद भी लोगों को रैली का न्यौता देने मैदान में है। कहा जाता है कि हाईकमान ने इस बार हरियाणा को 50 हजार की भीड़ लाने को कहा है।

वहीं इन सब से इतर कुलदीप बिश्नोई भी लोगों को रैली के लिए आंमत्रित कर रहे है। कुल मिलाकर देखा जाए तो सभी गुट राहुल की रैली को सफल बनाने औऱ हाईकमान को रिझानो की पूर जोर कोशिश में है।

यह भी पढ़ें-

लापरवाही पर सख्त हुए अनिल विज, तीन डॉक्टरों को किया गया सस्पेंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *