शिक्षा मंत्री ने पूर्व सीएम हुड्डा पर साधा निशाना, जाट आरक्षण के दौरान हुई हिंसा का उठाया मुद्दा

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Deepak Khokhar, Yuva Haryana

Rohtak, 4 August, 2018

प्रदेश के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई हिंसा के मामले में अप्रत्यक्ष तौर पर पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि हुड्डा रोहतक के ही रहने वाले हैं और 10 साल सीएम रहे हैं।

लेकिन  19 व 20 फरवरी को रोहतक के अरमान जल गए थे और इसमें हुड्डा के करीबी शामिल पाए गए। उन्होंने सीधे तौर पर हुड्डा के पूर्व राजनीतिक सलाहकार प्रो. वीरेंद्र का नाम लिया है।

रामबिलास शर्मा ने रोहतक में प्रेस कांफ्रेंस कर जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई हिंसा का मुद्दा उठाया। शिक्षा मंत्री ने कहा कि वे तथ्य सामने रख रहे हैं। हालांकि एक पत्रकार के हुड्डा के संबंध में सवाल पर शिक्षा मंत्री ने पत्रकार से ही सवाल कर डाला कि आप हुड्डा को भीतर कराना चाहते हैं।

शर्मा ने माना कि फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान प्रदेश सरकार से चूक हुई। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जाट नेता यशपाल मलिक पर देशद्रोह मामले में जल्द ही कार्रवाई होगी।

शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने हरियाणा में एजुसेट सिस्टम फेल होने के मामले में भी पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि एजुसेट सिस्टम वाली कंपनी हुड्डा के रिश्तेदारों की थी, जो भाजपा सरकार आते ही भाग गई। कहां गई, कैसे गई, पता नहीं। एक सवाल के जवाब में शर्मा ने कहा कि मौजूदा शैक्षणिक सत्र में ही छात्र संघ चुनाव होंगे।

रामबिलास शर्मा ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्ट्रर (एनआरसी) के बारे में भी प्रतिक्रिया व्यक्त की। इस मामले में उन्होंने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वोट बैंक की राजनीति के चलते वे पश्चिम बंगाल को धर्मशाला बनाना चाहती हैं। इस प्रेस कांफ्रेंस के दौरान प्रदेश के सहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर भी मौजूद रहे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *