घर में सत्ता लाने का वादा करके कलायत के लोगों से समर्थन मांगा रणदीप सुरजेवाला ने, कहा 10 सीटों तक नहीं पहुंचने देंगे भाजपा को

Breaking बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा

कैथल जिला परिषद के पूर्व उप प्रधान धर्मवीर कौलेखां के कार्यालय के उद्घाटन के लिए कलायत पहुंचे कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने खट्टर सरकार पर गरीबों के हक़ का कानून ख़त्म करने का लगाया। सुरजेवाला ने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में 2010 में गरीबों के लिए शुरू किये गए एससी सबप्लान को भाजपा सरकार ने ख़त्म करने के निर्णय लेकर एक बड़ी साजिश को अंजाम दिया है। यह कदम गरीबों व दलितों की सरकारों के बजट में सीधे सीधे हिस्सेदारी को ख़त्म करना है। इसका सीधा प्रभाव सरकारी खजाने में गरीब की हिस्सेदारी पर पड़ेगा।

कलायत अनाज मंडी में हुई जनसभा में रणदीप ने कहा कि हमेशा से ही देवीलाल और उनकी पीढियां इस हलके से वोट तो बटोर लेते हैं लेकिन हमेशा इस हलके को हर प्रकार से महरूम रखा। सुरजेवाला ने कहा कि यह रैली सत्ता प्राप्ति, राजगद्दी प्राप्ति या चुनाव जीतने की मंशा से नहीं की गई बल्कि यहाँ की जनता के हकों को उन्हें सौंपने के लिए की गई है। यह रैली व्यवस्था परिवर्तन की रैली है। यह रैली किसान, मजदूर, छोटे छोटे दुकानदार का धंधा लौटाने के लिए है, यह रैली किसानों के चेहरों पर ख़ुशी लौटाने की है।

जनता से अपील करते हुए रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आप कांग्रेस को वोट दो, आपकी हर एक वोट रणदीप सुरजेवाला को पड़ेगी। हम कलायत की जनता के साथ गाँव गाँव, शहर के हर वार्ड में कांग्रेस पार्टी का अलख जगायेंगे और भाजपा को दहाई का आंकडा भी नहीं छूने देंगे।

कार्यक्रम के आयोजक धर्मवीर कौलेखां ने कहा कि हलके की खुशहाली, जातिवाद को दूर करने, हलके के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए इस हलके की जनता को 36 बिरादरी के नेता रणदीप सुरजेवाला के साथ खड़ा होना पड़ेगा। जब हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी तब भी हरियाणा के हकों व किसान, मजदूर, कमेरे वर्ग की आवाज़ हमेशा से ही रणदीप सुरजेवाला ने उठाई है और आज भी मुश्किल की इस घड़ी में सुरजेवाला ने हरियाणा में अलग अलग हिस्सों में रैलियाँ करके कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने और कांग्रेस का ग्राफ बढाने में अपनी अहम् भागेदारी पेश कर रहे हैं। धर्मवीर सिंह क़ौलेखां ने रणदीप सुरजेवाला को भावी सीएम बताते हुए कहा कि 36 बिरादरी के नेता सुरजेवाला ने हमेशा ही गरीब, मजदूर, कमेरे वर्ग और किसानों के हकों की लड़ाई में हमेशा ही अग्रसर हैं और अबकी बार कांग्रेस की चौधर उत्तरी हरियाणा से शुरुआत होगी और जिसमे सबसे ज्यादा भागीदारी कलायत के लोगों की होगी।
उमड़ी भारी भीड़ को संबोधित करते हुए सुरजेवाला ने भाजपा सरकार को किसान विरोधी करार देते हुए कहा कि सत्ता मिलने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पठानकोट और कुरुक्षेत्र के एक जलसे में किसानों को लागत पर 50 प्रतिशत मुनाफा देने का वायदा किया लेकिन सत्ता मिलने के बाद ने 22 फरवरी 2015 को सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र देकर कहा था कि वह किसानों को 50 फीसदी मुनाफा नहीं दे सकते। इससे बाजार भाव बिगड़ जाएगा।

सुरजेवाला ने कहा कि मेरा सरकार से सवाल है कि जब देश के 12 उद्योगपतियों का 1 लाख 86 हजार करोड़ का कर्जा माफ कर दिया गया तो बाजार भाव क्यों नहीं बिगड़े। सुरजेवाला ने कहा कि जब कांग्रेस का शासन था तो कांग्रेस पार्टी ने इस देश के किसानों का 72 हजार करोड़ रुपया कर्जा माफ किया और जब इस बार फिर कांग्रेस सरकार बनेगी तो भी 2 एकड़ तक के किसानों और भूमिहीन किसान खेत मजदूरों का 50 हजार तक का कर्जा माफ किया जायेगा।

भाजपा पर किसानविरोधी होने का आरोप लगाते हुए सुरजेवाला ने कहा कि इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि जब किसी सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र पर टैक्स लगाया गया हो। भाजपा द्वारा ट्रैक्टर एवं अन्य सभी उपकरणों पर 12 प्रतिशत का जीएसटी टैक्स लगाया गया जबकि टायर, ट्यूब और ट्रांसमिशन पार्ट्स पर 18 प्रतिशत का जीएसटी टैक्स लगाया गया। कीटनाशक दवाइयों पर 18 प्रतिशत, खाद पर 5 प्रतिशत तथा कोल्ड स्टोरेज पर 12 प्रतिशत का जीएसटी लगा दिया गया है। किसानो के आलू को सुरक्षित रखने वाले कोल्ड स्टोरेज पर भी 12 प्रतिशत टैक्स लगाकर किसानों की पीठ में छुरा घोंपने का काम किया गया है।

इसी प्रकार केंद्र की मोदी सरकार पेट्रोल और डीजल पर एक्साईज डयूटी लगाकर इस देश की जनता से 10 लाख करोड़ रुपए और खट्टर सरकार 9 हजार करोड़ रुपए वसूल रही है। यही भाजपा व कांग्रेस की सोच का फर्क है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को प्राइवेट मुनाफा कम्पनी व किसान शोषण योजना करार देते हुए सुरजेवाला ने कहा कि किसान की फसल खराब होती है तो केन्द्र व खट्टर सरकार कहती है कि हमने फसल बीमा योजना लागू की है। इसकी सच्चाई किसी को नहीं बताई। इस सरकार ने खेती बाड़ी पर टैक्स लगाकर 20 हजार 500 करोड़ रुपये एकत्रित कर लिए और किसानों को बीमा के रूप में केवल मात्र 5000 करोड़ रुपया दिया गया। 14 हजार करोड़ रुपये देश की 7 बीमा कंपनियों के खाते में चले गए, इनमें से कुछ कंपनियां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चहेती कंपनियां हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना का नाम प्रधानमंत्री फसल बीमा नहीं, बल्कि प्राइवेट मुनाफा कम्पनी होना चाहिए।

खट्टर सरकार को पेपर लीक सरकार बताते हुए सुरजेवाला ने कहा कि खट्टर सरकार के शासनकाल में अभी तक 17 पेपर लीक हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री खट्टर और भाजपा एक तरफ तो भ्रष्टाचार को खत्म करने के झूठे दावे करती है, लेकिन दूसरी ओर प्रदेश में भ्रष्टाचार का बोलबाला है और आम जनमानस भ्रष्टाचार से त्रस्त है। उन्होंने कहा कि सरकार की कथनी और करनी में फर्क का पता इस बात से चलता है कि दो भाजपा नेताओं के बीच हुई बातचीत के वायरल हो जाने के पश्चात कांग्रेस के दबाव में खट्टर सरकार को इसकी जांच के आदेश देने पड़े, लेकिन इसके बावजूद भ्रष्टाचार के संगीन आरोपों का सामना कर रहे भारत भूषण भारती को तीन साल के लिए स्टाफ सलेक्शन कमीशन के चेयरमैन के रूप में एक्सटेंशन दे दी गई, जबकि अन्य सदस्यों को एक साल की एक्सटेंशन दी गई।

जनता यह साफ समझ रही है कि तथाकथित जांच केवल जनता की आंखों में धूल झोंकने के लिए की गई थी और भारती की कारगुजारियों को भाजपा सरकार का पूरा समर्थन व संरक्षण प्राप्त है, जिसे कांग्रेस पार्टी व प्रदेश के लाखों बेरोजगार युवा कतई स्वीकार नहीं करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *