हरियाणा में भाजपा की उल्टी गिनती शुरु, खट्टर जल्द उठाकर जाएंगे अपना झोला- सुरजेवाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 08 Dec, 2018

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मीडिया इंचार्ज व पार्टी की केंद्रीय कार्यसमिति के सदस्य रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री खट्टर पर जोड़ी को देश के इतिहास में सबसे बड़े किसान विरोधी क़रार दिया है। यहां गांव छपरौला में मार्किट कमेटी के पूर्व चेयरमैन हरि चंद तेवतिया द्वारा आयोजित जन आक्रोश रैली में जनसभा में उमड़ी भारी भीड़ के बीच बत्तौर मुख्यातिथि पहुंचे रणदीप सुरजेवाला ने खट्टर और मोदी सरकार को गुरु चेले की जोड़ी व झूठों का सरदार होने का आरोप भी लगाया।

खट्टर सरकार को निशाने पर लेते हुए सुरजेवाला ने कहा कि आज पूरे हरियाण प्रांत और पूरे देश के अंदर पीठ और पेट एक करके मिट्टी से सोना पैदा करने वाला किसान व उसके साथ काम करने वाला मजदूर पीडि़त, व्यथित और आंदोलित है। उन्होंने कहा कि जब केन्द्र में भाजपा की सरकार नहीं बनी थी तो नरेन्द्र मोदी ने कुरूक्षेत्र में एक जलसे के दौरान किसानों को वायदा किया था कि भाजपा की सरकार आने पर उनको फसल लागत का 50 फीसदी मुनाफा दिया जाएगा। जब सरकार बनी तो मोदी व खट्टर सरकार ने इस वायदे को भूलाकर किसानों की पीठ पर खंजर घोपने का काम किया। उन्होंने कहा कि यहां तक ही नहीं केन्द्र सरकार ने 22 फरवरी 2015 को सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र देकर कहा था कि वह किसानों को 50 फीसदी मुनाफा नहीं दे सकते। इससे बाजार भाव बिगड़ जाएगा।

उन्होंने कहा कि मोदी खट्टर के चार साल में किसानों को बेहाल कर दिया गया है। मोदी और खट्टर सरकार द्वारा इससे बड़ा अन्याय किसान के साथ क्या हो सकता है कांग्रेस राज में सरसों के भाव में 1350 रु की बढ़ोत्तरी करते हुए 1700 रु से 3050 रु क्विंटल तक किए गए। आज भाजपा राज में सरसों का भाव तो 4000 रु है लेकिन बाजार में 3200 रु क्विंटल पर पीट रही है। कांग्रेस राज में बाजरा के भाव को 515 रु से 1250 रु प्रति क्विंटल तक लेकर गई लेकिन आज बाजरा की खरीद 1950 रु क्विंटल होने पर भी 1200 रु तक किसान बेचने पर मजबूर हुए और कपास का समर्थन मूल्य 5000 रु प्रति क्विंटल होने के बावजूद भी 3800 रु प्रति क्विंटल बिकी है लेकिन कांग्रेस के शासन में यही कपास की फसल 6500 रु प्रति क्विंटल तक बिकी।

भाजपा सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए सुरजेवाला ने कहा कि इतिहास में पहली सरकार है जिसने कृषि पर टैक्स लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा द्वारा ट्रैक्टर एवं अन्य सभी उपकरणों पर 12 प्रतिशत का जीएसटी टैक्स लगाया गया जबकि टायर, ट्यूब और ट्रांसमिशन पार्ट्स पर 18 प्रतिशत का जीएसटी टैक्स लगाया गया। कीटनाशक दवाइयों पर 18 प्रतिशत, खाद पर 5 प्रतिशत तथा कोल्ड स्टोरेज पर 12 प्रतिशत का जीएसटी लगा दिया गया है। किसानो के आलू को सुरक्षित रखने वाले कोल्ड स्टोरेज पर भी 12 प्रतिशत टैक्स लगाकर किसानों की पीठ में छुरा घोंपने का काम किया गया है और अब मौजूदा खट्टर सरकार ने 10 साल पुराने ट्रैक्टरों को चलन से बाहर करने का निर्णय लिया है। इसलिए इस निक्कमी व खटारा सरकार को बदलने की जरूरत है।

सुरजेवाला ने कहा कि आज भाजपा सरकार की तानाशाही रवैये के कारण प्रतिदिन 47 किसान आत्महत्या कर रहे हैं। सुरजेवाला ने कहा कि मेरा सरकार से सवाल है कि जब देश के 12 उद्योगपतियों का 2 लाख 83 हजार करोड़ का कर्जा माफ कर दिया गया तो 62 करोड़ किसान मजदूरों का 2 लाख करोड़ रु क्यों नही माफ हो सकता। सुरजेवाला ने कहा कि जब कांग्रेस का शासन था तो कांग्रेस पार्टी ने इस देश के किसानों का 72 हजार करोड़ रु कर्जा माफ किया और इस बार भी कांग्रेस सरकार बनते ही किसानों का कर्जा माफ किया जाऐगा। क्या इस तरह से ही देश व प्रदेश के किसानो का भला करेगी भाजपा सरकार? इसलिए बदलाव की जरूरत है।

प्रदेश की खट्टर सरकार पर बरसते हुए सुरजेवाला ने कहा कि हरियाणा सरकार युवा विरोधी है। रोजगार देने की बजाए युवाओं से रोजगार छीने जा रहे हैं। सुरजेवाला ने कहा कि चुनावों में हर साल 2 करोड़ रोजगार देने का वायदा भी भाजपा सरकार द्वारा हवा हवाई हो गया है। हरियाणा में एक युवक द्वारा खट्टर सरकार पर नौकरियों के मामले में आरटीआई द्वारा 10 हजार नौकरियां न देकर इस खट्टर सरकार का रोजगार मामले में युवा विरोधी चेहरे को बेनकाब हुआ है।

सुरजेवाला ने कहा कि मुख्यमंत्री खट्टर और भाजपा सरकार एक तरफ तो भ्रष्टाचार को खत्म करने के झूठे दावे करती है, लेकिन दूसरी ओर प्रदेश में भ्रष्टाचार का बोलबाला है और आम आदमी भ्रष्टाचार से त्रस्त है। उन्होंने कहा कि सरकार की कथनी और करनी में फर्क का पता इस बात से चलता है कि दो भाजपा नेताओं के बीच हुई बातचीत के वायरल हो जाने के पश्चात भी न कोई जांच हुई, न मुकदमा दर्ज हुआ और न ही कोई कार्रवाई हुई बल्कि इसके बावजूद भ्रष्टाचार के संगीन आरोपों का सामना कर रहे भारत भूषण भारती को तीन साल के लिए स्टाफ सलेक्शन कमीशन के चेयरमैन के रूप में एक्सटेंशन दे दी गई, जबकि अन्य सदस्यों को एक साल की एक्सटेंशन दी गई। जनता यह साफ समझ रही है कि तथाकथित जांच केवल जनता की आंखों में धूल झोंकने के लिए की गई है और भारती की कारगुजारियों को भाजपा सरकार का पूरा समर्थन व संरक्षण प्राप्त है, जिसे कांग्रेस पार्टी व प्रदेश के लाखों बेरोजगार युवा कतई स्वीकार नहीं करेंगे।

सुरजेवाला ने कांग्रेस पार्टी सत्ता में आने पर वायदा करते हुए कहा कि आज हरियाणा में 70 हजार पद नौकरियों के खाली पड़े हैं। कांग्रेस की सरकार बनते ही 1 साल के अंदर सारे पद भरे जाएंगे, पृथला में एक सरकारी कॉलेज खोला जाऐगा, कांग्रेस की सरकार बनते ही हरियाणा में किसानों का 1 लाख तक का कर्जा माफ किया जाऐगा। इस अवसर पर पूर्व मंत्री ए सी चौधरी,पूर्व मंत्री बच्चन सिंह आर्य,सुमित्रा चौहान,पूर्व मंत्री सुल्तान जंडौला,पूर्व विधायक शिव शंकर भारद्वाज,भूपेन्द्र फौगाट,सतबीर पहलवान,संजय छौक्कर,ईश्वर नैन,वीरेन्द्र जागलान,सविता चौधरी,नीना राठी,अरविंद खटाना,सतबीर गुर्जर, मनमोहन भड़ाना, वीरेंद्र तेवतिया, शालिनी मेहता आदि कांग्रेस के नेताओं ने भी संबोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *