कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणजीत सिंह का बयान, कांग्रेस नेतृत्व में परिवर्तन की जरुरत

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष
Yuva Haryana
Hisar, 05 Feb, 2019
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद रणजीत सिंह ने तल्ख लहजे में केंद्रीय नेतृत्व को सलाह देते हुए बयान जारी किया है कि संगठन की कमजोरी को देखते हुए पार्टी को अपने नेतृत्व का पुनर्मूल्यांकन करते हुए उसे बदलने की जरूरत है। रणजीत सिंह ने आज स्थानीय लोक निर्माण विश्रामगृह में अपने कार्यकर्ताओं की बैठक उपरांत मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि लगातार आ रहे नतीजे बता रहे हैं कि कांग्रेस काफी कमजोर स्थिति में है और उसे अपना आत्म विश्लेषण करते हुए मुख्यमंत्री के रूप में एक मजबूत चेहरे की घोषणा कर देनी चाहिए और साथ ही संगठनात्मक नेतृत्व में भी बदलाव जल्द से जल्द कर देना चाहिए।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणजीत सिंह ने संगठन को लेकर क्या कहा, सुनिये

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणजीत सिंह ने संगठन को लेकर क्या कहा, सुनिये

Posted by Yuva Haryana on Tuesday, 5 February 2019

जींद उपचुनाव में हुई करारी हार पर प्रतिक्रिया देते हुए रणजीत सिंह ने कहा कि आधी रात के 12 बजे किसी प्रत्याशी को उतारना मजबूती का संकेत नहीं है और इस तरीके से जनादेश मिलना मुश्किल होता है। हार के बाद कांग्रेस प्रत्याशी रणदीप सिंह सुरजेवाला द्वारा कांग्रेसी नेताओं द्वारा मदद ना करने के लगाए गए आरोपों पर पूर्व सांसद ने कहा कि इस तरीके से बयान बाजी करके पार्टी को कमजोर किया जा रहा है और सभी नेता अपने समर्थकों सहित लगातार प्रचार कर रहे थे।
इनेलो और बसपा के गठबंधन टूटने की कगार पर पहुंचने बारे प्रतिक्रिया देते हुए रणजीत सिंह ने कहा की इंडियन नेशनल लोकदल काफी कमजोर स्थिति में है और जैसा पहले होता था उस तरह की पार्टी अब नहीं रह गई है। साथ ही रणजीत सिंह ने कहा कि इनेलो के टूटने का फायदा जननायक जनता पार्टी, कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी को मिला है। जननायक जनता पार्टी की तरफ से उन्हें शामिल किए जाने के प्रयासों पर रणजीत सिंह ने कहा कि परिवार अलग विषय है और राजनीतिक तौर पर फैसला वह स्वयं के नफे और नुकसान को ध्यान में रखते हुए लेंगे।
नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला और दुष्यंत चौटाला के बीच चौधरी देवीलाल की विरासत को लेकर किए जा रहे हैं दावों पर पूछे गए सवाल के जवाब में रणजीत सिंह ने कहा की विरासत तो ओम प्रकाश चौटाला की भी थी जिसे जे जे पी ने किनारे करते हुए पोस्टर तक से बाहर निकाल दिया लेकिन लोगों का जनादेश उन्हें मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *