भारत भूषण भारती का निलंबन रद्द, दोबारा HSSC का संभाला चार्ज

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Umang Sheoran, Yuva Haryana
Panchkula, 17 July, 2018

हरियाणा स्टाफ सैलेक्शन कमीशन के पूर्व चेयरमैन भारत भूषण भारती को बड़ी राहत मिली है। रिटायर्ड जस्टिस दर्शन सिंह की जांच रिपोर्ट के बाद भारत भूषण भारती का निलंबन रद्द कर दिया है। अब भारत भूषण भारती ने दोबारा से चार्ज संभाल लिया है।

भारत भूषण भारती को ब्राह्णमणों पर विवादास्पद सवाल प्रश्न पत्र में आने के बाद हटाया गया था और कमीशन का चेयरमैन आईएएस दिप्ती उमाशंकर को बनाया गया था, लेकिन अब जांच में सामने आया है कि भारत भूषण भारती को क्लीन चिट दे दी गई है।

 

हरियाणा सरकार ने जांच के दौरान भारती को पद से हटा दिया था और उनकी जगह पर आईएएस दिप्ती उमाशंकर यह जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

बता दें कि हरियाणा स्टाफ सेलेक्शन कमीशन में एक पेपर में ब्राह्मणों को लेकर विवादित सवाल पूछा गया था आपको वो भी दिखाते हैं कि ऐसा क्या सवाल था जिसको लेकर इतना विवाद हुआ था।

क्या था विवाद ?

दरअसल 10 अप्रैल को हुडा के जेई की परीक्षा हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की तरफ से ली गई थी, इस परीक्षा के मोर्निंग सेशन के पेपर में सवाल नंबर 75 में ब्राह्मणों के लिए विवादित सवाल पूछा गया था।

यह है वो 75वां सवाल 

निम्नलिखिति में से कौनसा अपशकुन नहीं माना गया है ?

A. खाली घड़ा                                 B. फ्यूल भरा कास्केट

C.  काले ब्राह्मण से मिलना               D. ब्राह्मण कन्या को देखना

क्या था राजनीतिक विवाद ?

इस सवाल को लेकर राजनीतिक विवाद भी बढ़ रहा है, कांग्रेस और बीजेपी नेता आपस में एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप भी लगा रहे हैं। जवाहर यादव के मुताबिक जिस किताब से जाति आधारित सवाल पूछा गया है वो किताब साल 2012 में छपी थी और तब राज्य और केंद्र में कांग्रेस की सरकार की थी। यादव ने कहा कि जिस किताब से यह सवाल लिया गया है उसमें सिर्फ ब्राह्मण ही नही, इनके अलावा दूध (यादव,जाट, गुज्जर)के काम से जुड़े लोगों के लिए भी अभद्र टिप्पणी थी। हमारी सरकार ने संज्ञान में आते ही ऐसे संभी संदर्भ सरकारी परीक्षाओं से दूर करने का आदेश दिया है। इससे पहले भी अटल सरकार के दौरान पाठ्य पुस्तकों से शहीद भगत सिंह को आतंकवादी बताने और जाटों के लिए इस्तेमाल आपत्तिजनक टिप्पणी को हटवाया गया था। हम आंख मूंदकर नहीं बैठते, ना ही इस बहस को प्राथमिकता देते कि गलती किसकी है। लेकिन कांग्रेस इससे उल्टा करती है और बार-बार फजीहत करवाती है।

चेयरमैन ने किया था खेद व्यक्त 

इसके साथ ही आयोग ने इस प्रश्न को वापस लेने का फैसला लिया है और इस संबंध में यदि किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची हो तो इसके लिए खेद व्यक्त किया था।

हरियाणा सरकार ने भारती को हटाने का काम किया था, क्योंकि ब्राह्मणों के सवाल के अलावा भर्तियों में गड़बड़ी को लेकर भी विवाद चल रहा था जिसके बाद हरियाणा सरकार और राज्यपाल ने चेयरमैन भारती को पद से मुक्त कर दिया था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *