हरियाणा में 700 से 800 ग्राम सचिवों के पदों पर होंगी भर्तियां- मुख्यमंत्री मनोहर लाल

Breaking Uncategorized चर्चा में बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 25 July, 2018

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि 7 हजार पुलिस सिपाही और 450 सब इंस्पेक्टर तथा ग्रुप डी की 38 हजार भर्तियां जल्द होंगी। इस प्रकार जल्द ही 700 से 800 ग्राम सचिवों की भी भर्तियां की जाएंगी।

मुख्यमंत्री गत देर सायं एक कार्यक्रम में उपस्थिति लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 24 हजार भर्तियां हो चुकी हैं। 22 हजार भर्तियां पाइपलाइन में हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा के इतिहास में एचपीएससी ने 1900 भर्तियां पहली बार एक साल में की हैं, आज तक कभी किसी सरकार के कार्यकाल में इतनी भर्तियां एक साल में कभी नहीं हुई।

उन्होंने कहा कि अब सरकारी  भर्तियां मैरिट के आधार पर होती हैं, जिससे आज जनता में सिस्टम के प्रति विश्वास बढ़ा है। फिर भी जो लोग गलत करते हैं उन पर कार्रवाई की जाती है। कुछ समय पहले एक गिरोह को पकड़ा, उन्हें सजा हुई है। उन्होंने कहा कि जो भी कोई गलत काम करेगा उसे बख्शा नहीं जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में लगभग 2200 ग्राम सचिवों के पद हैं और इन पदों को कलस्टर के अनुसार नियुक्त किया गया है, लेकिन सरकार इस पर विचार कर रही है कि प्रत्येक 2 गांव के ऊपर एक ग्राम सचिव नियुक्त हो और उसकी शैक्षणिक योगयता में भी बढोतरी होनी चाहिए। इस प्रकार से जल्द ही 700 से 800 ग्राम सचिवों की भर्तियां की जाएंगी।

हरियाणा में ग्राम सचिवों के पदों में होगी बढोत्तरी लेकिन नौकरी पाने के लिए नया नियम भी लागू किया

उन्होंने कहा कि रोजगार के नाते से इन्वेस्टर समिट किया गया, जिसमें 350 एमओयू हुए, जिसमें से 150 एमओयू आज धरातल पर हैं। उन्होंने कहा कि हमने सक्षम योजना नाम से एक अनूठी योजना शुरू की जिसके अंतर्गत ग्रैजुऐट और पोस्ट ग्रैजुऐट बेरोजगारों को 100 घंटे काम करने की एवज में 9 हजार रुपये देते हैं, ताकि वो अन्य प्रतियोगिता परीक्षा और स्व: रोजगार के लिए अपने आप को सक्षम बना सके। अब तक सक्षम योजना के तहत 42 हजार लोगों को काम दे चुके हैं।

उन्होंने कहा कि ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग में हरियाणा 2014 में 14वें नंबर था। हमारे लगातार किये गए प्रयासों से आज हरियाणा उत्तर भारत में नंबर 1 पर है। उन्होंने कहा कि हमने विकास के साथ-साथ सामाजिक विकास के भी काम किये हैं। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ इसका बडा उदाहरण है। वर्ष 2012 में लिंगानुपात  830 था वो आज 922 तक पहुंच गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *