वायु प्रदूषण के कारण भारत में बढ़ी मौतों की संख्या, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

अनहोनी चर्चा में दुनिया देश बड़ी ख़बरें सेहत हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

18-04-2018

बढ़ता प्रदूषण भारत समेत पूरी दुनिया के लिए चिंता का सबब बन चुका है। भारत में वायु प्रदूषण से होने वाली मौतें सबसे तेज रफ्तार से बढ़ रही हैं। प्रदूषण से होने वाली मौतों में भारत में सबसे आगे  है।

स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर रिपोर्ट में यह खुलास हुआ है कि भारत में 1995 में 7.33 लाख लोगों को वायु प्रदूषण से अपनी जान गंवानी पड़ी, जबकि 2015 में करीब 10.34 लाख लोग वायु प्रदूषण के कारण समय से पहले ही मौत का ग्रास बन गए।

शोधकर्ताओं ने कहा कि इनमें से अधिकतर मौतें प्रदूषण की वजह से होने वाली दिल की बीमारियों, स्ट्रोक, फेफड़ों के कैंसर और सांस की गंभीर बीमारी सीओपीडी जैसी बीमारियों की वजह से हुई।

आपको ये जानकर झटका लग सकता है कि दुनियाभर में वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों में 25% भारत में होती है। यानी आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि इस वक्त भारत की स्थिति कितनी गंभीर और चिंताजनक है।  चौंका देने वाली बात तो यह है कि वायुप्रदूषण से होने वाली मौतों की संख्या कम होने का नाम ही नहीं ले रही।

रिपोर्ट में इस बात की ओर संकेत किया गया  हैं कि ठोस ईंधन, औद्योगिक तथा कोयले से चलने वाले पावर प्लांट के कारण होने वाले प्रदूषण से असामयिक मौतों की संख्या बढ़ी है। दुनियाभर में वायु प्रदूषण से होने वाली आधी से ज्यादा मौतें सिर्फ भारत में ही होती हैं।

दुनिया के 90 फीसदी लोग ऐसे हैं जो आज भी अशुद्ध हवा में सांस लेते हैं। इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन के मुताबिक, दुनिया में मौत की पांच बड़ी वजहें हैं. जिनमें हाई बल्ड प्रेशर, स्मोकिंग, हाई ब्लड शुगर और हाई कोलेस्ट्रॉल के अलावा मुख्य वजह वायु प्रदूषण है। भारत में होने वाली मौत की पहली वजह कुपोषण है, तो दूसरी सबसे बड़ी वजह वायु प्रदूषण है।

 

यह खबर भी पढ़िए –

मधुमक्खी के काटने से युवक की मौत, डॉक्टर्स पर इलाज में लापरवाही का आरोप

 

 

1 thought on “वायु प्रदूषण के कारण भारत में बढ़ी मौतों की संख्या, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *