टॉपर छात्रा से गैंगरेप मामले में कार्रवाई पर कार्रवाई, लेकिन नहीं पकड़ में आए आरोपी

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Devender Kumar, Ajay Atri, Sahab Ram
Yuva Haryana News

रेवाड़ी के कोसली इलाके के एक गांव की टॉपर छात्रा के साथ गैंगरेप मामले में पुलिस के हाथ खाली हैं। इस मामले में तीन आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया है। लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

जानिये पूरा मामला

छात्रा के परिजनों का आरोपः  12 सितंबर को छात्रा सुबह अपने घर से कोचिंग के लिए कनीना के लिए निकली थी लेकिन रास्ते में गांव के ही तीन जानकार युवकों ने छात्रा को नशीला पदार्थ पिलाकर अपहरण कर लिया और उसे किसी खेत में ले जाकर गैंगरेप किया। बताया जा रहा है कि छात्रा को आरोपी झज्जर इलाके के किसी खेत में ले गए थे और वहां पर छात्रा के साथ गैंगरेप किया। यहां पर छात्रा की हालत बिगड़ गई जिसके बाद गांव से किसी झोलाछाप डॉक्टर को बुलाया था, लेकिन हालत में कुछ ही सुधार हुआ जिसके बाद डरे हुए युवकों ने छात्रा को कनीना बस स्टैंड पर फेंक दिया और परिजनों को कनीना बस स्टैंड पर छात्रा के होने की सूचना फोन पर दी।

पीड़ित परिजनों ने बताया कि उनकी बेटी सीबीएसई में साल 2015 में हरियाणा रीजन में टॉपर रही है और उनकी बेटी को राष्ट्रपति ने दिल्ली में 26 जनवरी 2016 को सम्मानित किया था। पीड़िता सैकिंड इयर की छात्रा है और आज सुबह घर से कोचिंग के लिए निकली थी लेकिन कनीना बस स्टैंड के पास उसके गांव के ही जानकार तीन युवक उसे गाड़ी में बैठाकर ले गए।
पंकज, मनीष और नीसु नाम के तीन युवक छात्रा को अगवाकर महेन्द्रगढ़ जिले की सीमा से दूर झज्जर जिले की सीमा के खेतों में बने एक कुएं पर ले गए, जहां और भी लोग मौजूद थे और नशे की हालत में सभी ने उसे अपनी हवस का शिकार बनाया और वापस शाम करीब 4 बजे वही कनीना बस अड्डे पर बेसुध हालत में फेंककर वहां से रफू चक्कर हो गए। उन्ही युवकों में से एक युवक ने छात्रा के घर पर फ़ोन कर यह जानकारी भी दी कि उनकी लड़की यहां बेसुध पड़ी हुई है।

छात्रा के परिजनों ने कनीना बस स्टैंड पर पहुंचकर छात्रा को संभाला जिसके बाद वो उसे अस्पताल में लेकर गए। रात को पीड़ित परिजनों की शिकायत पर रेवाड़ी के महिला थाने में जीरो एफआईआर दर्ज की गई और मामले को कनीना भेज दिया गया।

अगले दिन दोपहर तक कोई कार्रवाई नहीं हुई जिसके बाद परिजनों ने इस पूरे मामले की जानकारी युवा हरियाणा की टीम को दी। जिसके बाद मामले में कार्रवाई शुरु हुई। हालांकि परिजनों का आरोप है कि पुलिस एक थाने से दूसरे थाने में घुमाती रही लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस दौरान आरोपी उनके सामने घूमते रहे और धमकियां देते रहे।

13 सितंबर को मामला पुलिस के एक थाने से दूसरे थाने में घूमता रहा और पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा। इस दौरान पीड़िता की तबीयत ज्यादा बिगड़ती रही जिसके बाद पीड़िता को रेवाड़ी के सामान्य अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

14 सितंबर को सुबह पीड़िता के परिजनों को कनीना थाने में बुलाया गया जहां पर करीब तीन घंटे तक छात्रा और उनके परिजनों को बैठाकर रखा गया। पीड़ित परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन्हे फोन किया था कि पहले अस्पताल ना जाए बल्कि थाने में आए।

इसके बाद मामले में जैसे ही ज्यादा तूल पकड़ा तो 14 सितंबर को शाम होते होते इस मामले में एसआईटी गठित की गई और मेवात की एसपी नाजनीन भसीन को एसआईटी का प्रमुख बनाया गया।

15 सितंबर को सुबह एसआईटी प्रमुख नाजनीन भसीन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर तीन आरोपियों के इस मामले में शामिल होने की बात कही। तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी पर एक लाख रुपये का इनाम रखा गया है।

रेवाड़ी के कोसली इलाके की छात्रा से गैंगरेप मामले में एक फौजी का नाम भी सामने आया है। इसकी पुष्टि डीजीपी बीएस संधु ने की है। मामले में आरोपी पंकज है जो कि राजस्थान में तैनात है। इस मामले में मीडिया के सामने डीजीपी बीएस संधु ने बताया कि छात्रा से गैंगरेप मामले में एक आरोपी फौजी है जिसके लिए वारंट जारी किये जा रहे हैं और जल्द ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पुलिस ने दोपहर तक तीनों आरोपियों को फोटो भी जारी कर दिये। इस मामले में पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। इधर गांव की कुछ महिलाओं ने गांव में हफ्ते भर पहले भी इस प्रकार की गैंगरेप की घटना होने का खुलासा किया। महिलाओं ने बताया कि गांव में इसी प्रकार से युवती के साथ गैंगरेप हुआ था लेकिन पिता नहीं होने के कारण लड़की का मामला दबा दिया गया था।

पुलिस ने छात्रा के साथ गैंगरेप मामले में एक डॉक्टर जो कि छात्रा का इलाज करने के लिए खेत में गया था और उस कोठरे का मालिक जिसने तीनों आरोपियों को चाबी दी थी और शिकंजे में लिया है और पूछताछ की जा रही है। कनीना गैंगरेप के मामले एसआईटी टीम के हाथ बड़ी कामयाबी लगी है। एसआईटी ने गैंगरेप की वारदात में आरोपियों को अपना कोठरा मुहैया कराने व वारदात में षड़यंत्र रचने वाले कोठरा मालिक को साक्ष्यों के आधार पर गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की पहचान नया गांव जाटों वाला निवासी दीनदयाल पुत्र मीरसिंह के रूप में हुई है। आरोपी से पूछताछ जारी है।

 

इधर पुलिस लगातार अन्य कुछ लोगों से भी पूछताछ कर रही है, तो राजनेताओं ने भी इस मामले में अपनी प्रतिक्रियाए देनी शुरु कर दी है। सभी बड़े नेताओं ने इस मामले में बीजेपी सरकार को आड़े हाथों लिया है।

पीड़िता के परिजनों को दो लाख रुपये का चैक भी दिया गया था लेकिन पीड़िता के परिजनों ने यह चैक यह कहते हुए वापिस लौटा दिया कि उन्हे न्याय चाहिए पैसे नहींं।

इस मामले में आज मुख्यमंत्री ने अपने जालंधर के कार्यक्रमो ंको टालकर चंडीगढ़ पहुंच गए हैं और डीजीपी को इस मामले में स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। इस मामले में सीएम ने रेवाड़ी के एसपी राजेश दुग्गल का तबादला कर दिया है और राहुल शर्मा को एसपी रेवाड़ी लगाया गया है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *