टोहाना में बनेंगे छह ओआरबी पुल, ग्रामीण इलाकों की सड़कें होंगी चौड़ी

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 23 July, 2018
हरियाणा सरकार ने प्रदेश में सडक़ परिवहन को मजबूत करने के लिए ग्रीनफील्ड नेशनल हाईवे बनाने, यमुना पर 3 पुलों का निर्माण प्री-फैब्रीकेटिड तकनीक द्वारा आरओबी/आरयूबी बनाने और ग्रामीण संडक़ों को 18 फुट चौड़ा करने का निर्णय लिया है।
यह जानकारी आज यहां हरियाणा के लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) मंत्री राव नरबीर सिंह ने आयोजित एक प्रेसवार्ता के दौरान दी। उन्होंने कहा कि यमुना नदी पर रादौर के निकट जटराना, पानीपत के निकट हथवाला तथा फरीदाबाद के मनावली में 125-125 करोड़ रुपये की लागत से तीन पुलों का निर्माण करवाया जा रहा है तथा ग्रामीण सडक़ों को भी 12 फुट से 18 फुट चौड़ा किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि राज्य में 63 आरओबी /आरयूबी का कार्य  आरम्भ करवाया गया है जिनमें 32 का लोकार्पण हो चुका है और 31 का कार्य लगभग पूरा होने को है, जबकि हरियाणा गठन के बाद से पिछली सरकारों के कार्यकाल में केवल 64 का कार्य पूरा हुआ था। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में 63 अन्य रेलवे क्रॉसिंग का कार्य आरम्भ करने का प्रस्ताव है। प्रदेश के कुल 592 मानवसंचालित रेलवे क्रॉसिंग में से 190 क्रॉसिंग पर वर्तमान सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान आरओबी/आरयूबी का कार्य पूरा कर या प्रस्ताव तैयार कर देश के सडक़ तंत्र को एक नया लुक दिया है।  सरकार ने वर्ष 2020 तक सभी मानव रहित रेलवे क्रोसिंग को खत्म करने का प्रस्ताव तैयार किया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार ने प्रदेश में आरओबी/आरयूबी के निर्माण की एक क्रांति का सूत्रपात किया है।
राव नरबीर ने बताया कि ग्रीन फील्ड राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना में हरियाणा को सोहना से फिरोजपुर-झिरका तथा कुरुक्षेत्र अम्बाला सीमा के ठोल से नारनौल वाया कलानौर चरखी-दादरी मार्ग भी मिले है।
राव नरबीर ने बताया कि इसी प्रकार, हरियाणा में कुण्डली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस-वे जो वर्ष 2010 में नई दिल्ली में सम्पन्न हुए राष्ट्रमण्डल के खेलों से पहले पूरा होना था, उसका कार्य आरम्भ करवाना  भी वर्तमान सरकार की एक बड़ी उपलब्धि है। इस एक्सप्रेस-वे का मानेसर-पलवल भाग संचालित हो चुका है तथा कुण्डली-मानेसर भाग का संचालन  अगस्त, 2018 तक पूरा होना अपेक्षित है। उन्होंने बताया के सडक़ निर्माण में नई ग्रीन तकनीक का उपयोग आने वाले समय में किया जाएगा और वर्तमान में प्रयोग के तौर पर ग्रीन तकनीक पर हांसी से सुलतानपुर 5 किलोमीटर सडक़ बनाकर इसका अवलोकन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि विभाग की कुल 26 हजार किलोमीटर लम्बी सडक़ों में से वर्तमान सरकार के कार्याकाल के दौरान 15086 किलोमीटर लम्बी सडक़ों के सुदृढ़ीकरण का कार्य किया गया है।
लोक निर्माण मंत्री ने बताया कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में 11 राष्ट्रीय राजमार्गों सहित दो ग्रीन फील्ड राष्ट्रीय राजमार्ग भी हरियाणा  के लिए घोषित हुए हैं। इनमें  जीन्द-गोहाना-सोनीपत, राजस्थान सीमा से कोठपुलती-नारनौल-महेन्द्रगढ़-चरखीदादरी-भिवानी -हांसी- बरवाला-टोहाना-पंजाब सीमा तक, अम्बाला-साहा-शाहबाद, भिवानी-मुढ़ाल-जीन्द-करनाल-मेरठ, राष्ट्रीय राजमार्ग-8 खेडक़ी दौला से दिल्ली द्वारका एक्सप्रेस शामिल हैं।
इसके अलावा, भारत माला परियोजना के तहत 156 किलोमीटर के 6 नये राष्ट्रीय राजमार्गों में  एनएच-52 से खनौरी शेरगढ़ अमो पंजाब में, संगतपुरा नंद सिंघवला से कैथल में एनएच-152  के जंक्शन-152ए तक, जगाधरी-बिलासपुर एनएच-709 जी, एनएच-352ए के जंक्शन झज्जर-बाईपास से एनएच-9 बहादुरगढ़ बाईपास तक एनएच-352आर, रेवाड़ी-पटौदी-गुरुग्राम एनएच-352डब्ल्यू,एनएच-709 के जंक्षन पानीपत से शामली व  पलवल अलीगढ़ एनएच-334डी शामिल है।
उन्होंने बताया कि पीपीपी मोड में 64 करोड़ रुपये की लागत से मेवात में 14.28 किलोमीटर लम्बी दो लेन की फिरोजपुर-झिरका बिवान सडक़ का सीमेंट कंक्रीट पेवमेंट कार्य पूरा किया गया।  वर्तमान सरकार ने कार्य गुणवता पर नजर रखने के लिए डीएलपी अवधि को  बड़ी सडक़ों  के लिए 4 वर्ष  व छोटी सडक़ों के लिए 3 साल किया है, फेसबुक तथा वॉटसएप् नम्बर  जारी किया गया है।  उन्होंने बताया कि जिला सडक़ों को चारमार्गी बनाने की योजना के तहत वर्तमान सरकार ने करनाल,कौल, राजौंद व गुल्हा-चीका की सडक़ो को चारमार्गी बनाया है तथा कुरुक्षेत्र,कैथल की  सडक़ों को चारमार्गी बनाने के लिए 200 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त, 9 रेलवे प्रोजेक्टस की व्यवहार्यता रिपोर्ट तैयार करने का कार्य तकनीकी सलाहकारों को आवंटित किया गया है जिनमें:- फारुखनगर-चरखीदादरी वाया झज्जर 73 किलोमीटर  रेलवे लाईन, पाटली मानेसर 20 किलोमीटर नई रेलवे लाइन-मारुति उद्योग के लिए,  करनाल-यमुनानगर 66 किलोमीटर,  भिवानी-लोहारु नई रेलवे लाइन 58 किलोमीटर, यमुनानगर- चण्डीगढ़ वाया सढौरा नारायणगढ़ 91 किलोमटर, जीन्द-हिसार 46 किलोमीटर,  दिल्ली-सोहना-नूंह-फिरोजपुर झिरका-अलवर 104 किलोमीटर, कुरुक्षेत्र एलिवेटिड ट्रेक 5 किलोमीटर , जीन्द वाईपास 8 से 10 किलोमीटर व जीन्द एलिवेटिड  ट्रेक शामिल हैं।
एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि आरओबी का निर्माण भविष्य में प्री-फेब्रिकेटिड तकनीक पर बनाने के प्रस्ताव पर भी विभाग गम्भीरता से कार्य कर रहा है। आरम्भ में गढ़ीहरसरु, करनाल, मुनक, कुरुक्षेत्र में दो स्थानों पर तथा टोहाना में छ: स्थानों पर प्री-फेब्रिकेटिड तकनीक आरओबी बनाए जाएंगे।
लोक निर्माण मंत्री ने बताया कि गुरुग्राम के नया विश्राम गृह का निर्माण भी विभाग की एक बड़ी उपलब्धि है तथा पंचकूला के सेक्टर-1 में एक ऐसा ही भव्य विश्राम गृह लगभग बन कर तैयार हो गया है। पंचकूला के सेक्टर-19 में आरयूबी के निर्माण का प्रस्ताव रेलवे मंत्रालय को भेजा गया है।  गुरुग्राम में पिछले वर्ष  मौनसून के दौरान यातायात जाम की स्थिति के बारे पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह राष्टï्रीय राजमार्ग प्राधिकरण व हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की गलतियों के कारण हुआ था और अब इफ्को-चौक, सिग्नेचर टॉवर, हीरो-होंडा चौक को एनएच-8 तक जोडऩे के लिए विशेष अंडरपास बनाए गए है जिसके चलते  गुरुग्राम में इस बार अधिक बारिश के बावजूद यातायात की स्थिति सामान्य रही।
उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का एकमात्र पहला राज्य है जहां सडक़ो को गड्ढा मुक्त रखने के लिए कैमरा, इटरनेट, थिन्गस सुविधायुक्त पैंचिंग मशीनों की नई तकनीक अपनाई गई। हरपथ हरियाणा मोबाइल एप्प पर कोई भी व्यक्ति लोक निर्माण विभाग से सम्बन्धित सडक़ों पर गड्ढों की तस्वीर अपलोड कर सकता है तथा 90 घंटों के  अन्दर-अन्द उस पर कार्यवाही की जाएगी।
राव नरबीर ने कहा कि जब से उन्होंने लोक निर्माण मंत्री के रूप में कार्य भार सम्भाला है तक से प्रदेश में सडक़ों का निर्माण व मरम्मत का कार्य पूरी पारदर्शिता व बिना भेदभाव के साथ सभी 90 की 90 विधानसभा क्षेत्रों में किया है। इस बात से विधानसभा में विपक्षी पार्टियों के सदस्य भी सहमत है।
इसी प्रकार, सप्ताह में सोमवार, मंगलवार व बुधवार को चण्डीगढ़ सचिवालय कार्यालय में तथा बहस्पतिवार, शुक्रवार व शनिवार को गुरुग्राम  कैम्प ऑफि स में कोई भी व्यक्ति सडक़ों के निर्माण व मरम्मत के सम्बन्ध में उनसे मिल सकता है। कई पंचायतें व विधायक उनके  कार्यालय में मिले है और प्राथमिकता आधार पर उनका कार्य करवाने का प्रयास किया है और वे संतुष्ट होकर गए है और बाद में कार्य पूरा होने पर धन्यवाद भी किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *