हरियाणा में धरने पर रोडवेज कर्मचारी, मांगे पूरी नहीं हुई तो 3 जून को करेंगे चक्का जाम

चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Ajay Atri, Yuva Haryana
Rewari, 12-04-2018

हरियाणा सरकार द्वारा 500 निजी बसों को किराये पर लेकर रोडवेज बेड़े में शामिल करने के फैसले का विरोध शुरु हो गया है।ना केवल विरोध बल्कि, रोडवेज कर्मचारियों ने सरकार को चेतावनी दी है कि वो एक भी निजी बस को रोडवेज बेड़े में शामिल नहीं होने देंगे, चाहे इसके लिए उन्हें कोई भी कुर्बानी देनी पड़े।

साथ ही रोङवेज कर्मचारियों ने आंदोलन शुरु कर दिया है। इसी के चलते, हरियाणा मंत्रिमंडल द्वारा 500 गाड़ियां हाईजैक कर हरियाणा रोडवेज के बेड़े शामिल करने के प्रस्ताव के विरोध में, रोडवेज कर्मचारियों ने रेवाड़ी बस अड्डे पर धरना दिया और सरकार चेतावनी दी कि अगर सरकार ने यह फैसला निरस्त नहीं किया, तो रोडवेज कर्मचारी आर-पार की लड़ाई से पीछे नहीं हटेंगे।

रोडवेज कर्मचारी यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष वीरेंद्र धनखड़ ने कहा कि सरकार अपने चहेतो के माध्यम से रोडवेज को निगम बनाना चाहती है। उनकी मांग है कि रोडवेज के बेड़े में बसों की संख्या बढ़ाई जाए और पक्की भर्ती की जाए।

अगर मांगे नहीं मानी गई तो कर्मचारी 21 अप्रैल से 19 मई के बीच प्रदेश के तमाम राजनीतिक दलों के नेताओ को ज्ञापन सौंपेंगे। फिर भी सुनवाई नहीं हुई तो, 3 जून को प्रदेश का चक्का जाम कर दिया जाएगा, जिसके लिए सरकार पूरी तरह जिम्मेदार होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *